नई दिल्ली: कांग्रेस में नेतृत्व संकट के बीच पूर्व रक्षामंत्री एके एंटनी और पार्टी के महासचिव केसी वेणुगोपाल ने पार्टी अध्यक्ष पद का ग्रहण करने से इनकार कर दिया है. एक वरिष्ठ कांग्रेसी सूत्र के अनुसार, एंटनी ने अपने कमजोर स्वास्थ्य का हवाला देते हुए यह जिम्मेदारी लेने से मना कर दिया.

वहीं, वेणुगोपाल ने पार्टी को मजबूत बनाने की जिम्मेदारी की बात कहते हुए एक और जिम्मेदारी लेने में असमर्थता जताई. वह कर्नाटक के प्रभारी भी हैं, जहां पार्टी ने लोकसभा चुनाव में 28 सीटों में से मात्र एक सीट पर जीत हासिल की. पार्टी के वरिष्ठ सदस्य अहमद पटेल और गुलाम नबी आजाद, जो गांधी परिवार से हटकर पार्टी के अध्यक्ष के लिए नए चेहरे की तलाश कर रहे हैं, उन्होंने एंटनी और वेणुगोपाल को यह प्रस्ताव दिया था.

मिशन 2022 के लिए यूपी CM योगी का महाप्लान, जनता से जुड़े हर मुद्दे को लेकर करेंगे ये काम

आम चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद 25 मई को कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के दौरान राहुल गांधी द्वारा अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश किए जाने के बाद से ही इस पद के लिए नए चेहरे की तलाश की जा रही है. हालांकि पार्टी के शीर्ष निर्णायक समिति ने सर्वसम्मति से इस इस्तीफे को अस्वीकार करने के साथ ही, उन्हें पार्टी की संरचना को मजबूत बनाने के लिए पूरी शक्ति प्रदान कर दी. पार्टी सूत्र के अनुसार, अब पार्टी उत्तर भारत से इस पद के लिए किसी नए चेहरे की तलाश में है.