अमृतसर: अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने विवादित फिल्म ‘नानक शाह फकीर’ के निर्माता हरिन्दर सिक्का को सिख पंथ से निकालने के फैसले की आज घोषणा की है. सिक्खों के प्रथम गुरू के जीवन पर आधारित फिल्म की रिलीज से एक दिन पहले पांचों तख्तों के जत्थेदारों की एक बैठक में यह फैसला लिया गया.Also Read - और चमकेगा गोल्डन टेंपल, 50 करोड़ रुपए के 160 किलो सोने की चढ़ेगी परत

सिनेमाघरों से फिल्म को वापस लेने के आदेशों का अनुपालन करने से सिक्का के इनकार करने के बाद यह बैठक बुलाई गई थी. इसके बाद में उन्हें निकालने की घोषणा की गई. इससे पहले अकाल तख्त ने फिल्म की रिलीज पर पाबंदी लगा दी थी. गुरबचन सिंह ने दलील दी कि सिख गुरूओं को जीवित रूप में दिखाने की इजाजत नहीं दी जा सकती. Also Read - Golden Temple: Black Flags, Swords Raised shown inside Temple | स्वर्ण मंदिर परिसर में लहराई गईं तलवारें, काले झंडे दिखाए गए

वहीं, शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा संचालित सभी संस्थाएं शुक्रवार को बंद रहेंगी. जानकारी के मुताबिक फिल्म की रिलीज का विरोध करने के लिए यह कदम उठाया गया है. बता दें कि गुरु नानक देव पर बनाई गई ‘नानक शाह फकीर फिल्म का विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है. 13 अप्रैल को बैसाखी के दिन रिलीज होने वाली फिल्म के विरोध में फरीदाबाद, सिरसा, यमुनानगर, करनाल सहित कई जिलों में सिख समुदायों द्वारा विरोध किया गया. Also Read - Americans do not know anything about Sikhism

सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म पर रोक लगाने संबंधित मामले में सुनवाई से इंकार दिया है. इस फैसले के बाद लोग स्वयं फिल्म पर प्रतिबंध लगाने के लिए लोग सड़कों पर उतर आए और इसे बैन किए जाने की मांग की. सिखों ने चेतावनी दी कि फिल्म रिलीज हुई तो देश में विरोध का उग्र रूप दिखेगा और इसकी जिम्मेदार सरकार की होगी.

-इनपुट भाषा