Akash Missile: रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन यानी DRDO ने सोमवार को ओडिशा के चांदीपुर रेंज से आकाश मिसाइल के अपडेटेड वर्जन ‘आकाश प्राइम’ का सफलतापूर्वक परीक्षण किया. परीक्षण के दौरान मिसाइल ने अपने लक्ष्य को सफलतापूर्वक भेद दिया.Also Read - What is ABHYAS: डीआरडीओ ने ‘अभ्यास’ लक्ष्य यान का सफल परीक्षण किया, जानिए क्या है इसकी खासियत

DRDO ने एक बयान जारी कर बताया कि मिसाइल ने सुधार के बाद अपने पहले परीक्षण उड़ान में दुश्मन के विमान की नकल करने वाले एक मानवरहित हवाई लक्ष्य को रोका और आसानी ने नष्ट कर दिया. Also Read - DRDO Recruitment 2021: DRDO में इन विभिन्न पदों पर बिना परीक्षा के मिल सकती है नौकरी, बस होनी चाहिए ये योग्यता, होगी अच्छी सैलरी

Also Read - DRDO Recruitment 2021: DRDO में इन पदों पर बिना परीक्षा के मिल सकती है नौकरी, जल्द करें आवेदन, 30000 से अधिक होगी सैलरी

आकाश मिसाइल प्रणाली का उन्नत संस्करण, आकाश प्राइम एक घरेलू RF साधक से लैस है जो विभिन्न मौसम परिस्थितियों में भी लक्ष्य को आसानी से भेद सकता है. DRDO ने एक बयान में कहा,  मौजूदा आकाश हथियार प्रणाली की संशोधित जमीनी प्रणाली का इस्तेमाल वर्तमान उड़ान परीक्षण के लिए किया गया है.

आकाश मिसाइल की खासियत
आकाश मिसाइल DRDO द्वारा विकसित और भारत डायनेमिक्स लिमिटेड द्वारा निर्मित एक मध्यम दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली (SAM) मिसाइल प्रणाली है. आकाश मिसाइल प्रणाली 18,000 फुट तक की ऊंचाई पर 50-80 किमी दूर तक निशाना लगा सकती है. मिसाइल में लड़ाकू जेट, हवा से सतह पर मार करने वाली मिसाइल और क्रूज मिसाइल जैसे हवाई लक्ष्यों को निशाना बनाने की क्षमता है.