लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी सरकार को लड़कियों और महिलाओं के लिए आज तक का सबसे खराब समय बताते हुये समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने आज कहा कि जिस प्रकार दुष्कर्म, अत्याचार व हत्याओं की ख़बरें आ रही हैं वह दिल दहलाने वाली हैं. वही सरकार के प्रवक्ता ने आंकड़े देते हुये सपा अध्यक्ष के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है.

 

यादव ने बुधवार को ट्वीट किया कि प्रदेश की बहन-बेटियों के साथ जिस प्रकार दुष्कर्म, अत्याचार एवं हत्याओं की ख़बरें आ रही हैं वह दिल दहलानेवाली है और सुरक्षा की दृष्टि से प्रदेश की लड़कियों और महिलाओं के लिए यह आज तक का सबसे ख़राब दौर है. घोर निंदनीय. उन्होंने अपने इस ट्वीट में किसी बलात्कार की घटना के बारे में नही बताया है. अखिलेश के इन आरोपों को खारिज करते हुए यूपी सरकार के मीडिया सलाहकार शलभमणि त्रिपाठी ने ट्वीट किया कि आंकड़े जवाब हैं, आपके आरोपों का, आपकी सरकार में सिर्फ़ 2016 में ही 14,917 हत्याएं, बलात्कार, और डकैतियां हुईं और यह आंकड़ा तब है जब हज़ारों मामले दबाए गए थे, मुक़दमे नहीं लिखे गए, आज अपराध घटे हैं तब जबकि सारे मुक़दमे आनलाइन लिखे जा रहे हैं, अपराधी मारे जा रहे हैं और जेलों में ठूँसें जा रहे, बेचैनी स्वाभाविक है.


जनवरी 2019 से 15 नवंबर तक प्रदेश में 3294 हत्या की घटनाएं
उन्होंने आंकड़े देते हुए कहा कि एक जनवरी 2019 से 15 नवंबर तक प्रदेश में 3294 हत्या की घटनायें, 2553 बलात्कार की घटनायें, 91 डकैती और 1982 लूट की घटनायें हुई है. जबकि वर्ष 2016 में एक जनवरी से 31 दिसंबर तक (जब अखिलेश की सरकार थी) तब 4679 हत्या की घटनायें, 3481 बलात्कार, 263 डकैती और 4118 लूट की घटना हुई थी.