लखनऊ, 4 अक्टूबर –  उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्धनगर जिले के दादरी इलाके के बिसाहड़ा गांव की घटना में मारे गए अखलाक के परिजनों ने रविवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने मदद की रकम बढ़ाकर 30 लाख रुपये कर दी और अखलाक के तीन भाइयों को भी 5-5 लाख रुपये देने की घोषणा की। यह भी पढ़ें- अखिलेश बरेली में 8 सितंबर को बांटेंगे लैपटॉपAlso Read - China के साथ सीमा संघर्ष के दौरान अग्र‍िम मोर्चों पर तैनात किए गए थे भारतीय युद्धपोत: नेवी चीफ

गोमांस खाने की अफवाह फैलाने के बाद पीट-पीटकर मारे गए अखलाक की मां, भाई, बेटी और दामाद मुख्यमंत्री से मिले। अखिलेश ने पीड़ित परिवार को ढाढस बंधाया और उन्हें हर तरह की सहायता एवं सुरक्षा मुहैया कराने तथा दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया। भेंट के दौरान मुख्यमंत्री ने मृतक के परिजनों को दी जाने वाली सहायता राशि एक बार फिर बढ़ाकर 30 लाख रुपये करने की घोषणा की और कहा कि अखलाक के तीन भाइयों को भी 5-5 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी। Also Read - ICC Test Championship Points Table: श्रीलंका ने जमाया शीर्ष पर कब्जा, तीसरे पायदान पर टीम इंडिया

Also Read - UP Assembly Election 2022: प्रियंका गांधी के आने से चुनाव में सपा को कितना होगा नुकसान, अखिलेश यादव ने बताया

मुख्यमंत्री ने पहले मदद की रकम 10 लाख रुपये तय की, मामला तूल पकड़ता देख रकम बढ़ाकर 20 लाख कर दी थी। अब पीड़ितों की दास्तां सुनने के बाद उन्हें यह रकम कम लगी, तो बढ़ाकर 30 लाख रुपये कर दिए।  अखिलेश ने इस सांप्रदायिक हिंसा में घायल अखलाक के बेटे का इलाज सरकारी खर्च पर करवाने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि उसके बेहतर इलाज के लिए अगर किसी अन्य अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ी तो यह कदम भी उठाया जाएगा।

मुलाकात के दौरान परिजनों ने समाजवादी मुख्यमंत्री को बताया कि इस घटना से पहले गांव में कभी दंगा-फसाद नहीं हुआ था, सभी लोग मिलजुल कर रह रहे थे। मुख्यमंत्री ने उनका दर्द साझा करते हुए उन्हें हर प्रकार की मदद का आश्वासन दिया।  मुख्यमंत्री ने इस घटना की भर्त्सना करते हुए कहा कि दोषियों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा, न्यायोचित कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने पुलिस प्रशासन को भी सख्त निर्देश दिए कि इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो और ऐसी घटनाओं में लिप्त तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।