शिमला: चीन के पीएलए सेना और भारतीय जवानों के बीच लद्दाख में हालिया हिंसक झड़प के बाद तिब्बत से सटे हिमाचल प्रदेश के किन्नौर और लाहौल-स्पीति के पास सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एहतियाती कदम उठाते हुए अलर्ट जारी किया गया है. राज्य सरकार ने मंगलवार को यह जानकारी दी. राज्य सरकार ने कहा कि यह कदम खुफिया जानकारी के बाद उठाया गया है और सभी राज्य खुफिया इकाइयों को भी अलर्ट कर दिया गया है. Also Read - अब अमेरिका से भिड़ा चीन, बोला- एक हजार साल से दक्षिण चीन सागर हमारा है

बता दें कि गलवान घाटी में तीन नहीं बल्कि 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए हैं. समाचार एजेंसी एएनआई ने सरकार के सूत्रों के हवाले से ये बड़ी खबर दी. वहीं, अब भारतीय सेना का भी बयान आया है कि पहले तीन जवान शहीद हुए थे. 17 घायल हुए थे. उनकी भी जान चली गई है. कुल 20 सैनिक शहीद हुए हैं. जबकि चीन के भी 43 सैनिक शहीद हुए हैं. एलएसी पर शव लेने के लिए चीनी हेलीकॉप्टरों की हलचल की भी खबर है. Also Read - पूर्वी लद्दाख विवाद: भारत-चीन के आर्मी कमांडरों के बीच आज चुशुल में हाईलेविल मीटिंग

बता दें कि सोमवार की रात लद्दाख क्षेत्र की गलवान घाटी में चीन और भारत की सेना के बीच संघर्ष हुआ था. पहले कहा गया था कि तीन लोग शहीद हुए थे. पिछले 45 वर्षों में इस तरह की यह पहली घटना है और यह संवेदनशील क्षेत्र में पिछले पांच हफ्ते से चल रहे व्यापक तनाव का संकेत देती है. Also Read - भारत से दस गुना अधिक है चीन की ताकत, वह देश के लिए पाकिस्तान से बड़ा खतरा है: शरद पवार