अलीगढ़: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के कुलानुशासक (प्रॉक्टर) प्रो. अफीफउल्लाह ने मंगलवार को अपने पद से त्यागपत्र दे दिया. इसे स्वीकर करते हुए मंगलवार को विधि विभाग के प्रोफेसर वसीम अली को यूनिवर्सिटी का नया प्रॉक्टर बनाया गया. प्रॉक्टर के रूप में उनका कार्यकाल दो वर्ष के लिए होगा. अफीफउल्लाह ने कहा कि व्यक्तिगत कारणों से और व्यस्तताओं के चलते इस्तीफा दिया है. इसके ज्यादा कुछ नहीं है. Also Read - AMU centenary celebration में बोले PM मोदी, वैचारिक मतभेद को किनारे रख राष्ट्रहित की सोचें युवा

ज्ञात हो कि 15 दिसंबर को एएमयू में हुए बवाल की घटना और कैंपस में पुलिस के प्रवेश को लेकर छात्रों का आक्रामक रुख बना हुआ था. वह प्रॉक्टर के इस्तीफे की मांग करते रहे. कुछ दिनों पहले बाब ए सैयद धरना स्थल पर प्रॉक्टर टीम को जूता दिखाने और अभद्रता जैसी घटनाएं भी हुईं. Also Read - AMU का नाम बदलने की हिमायत की खबरों से पूर्व भारतीय हॉकी कप्तान खफा

इसी कारण से प्रो. अफीफउल्लाह ने अपना इस्तीफा सौंप दिया. संयुक्त रजिस्ट्रार मिनहाज ए. खान ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. संयुक्त रजिस्ट्रार ने कहा है कि नए प्रॉक्टर का लंबा अनुभव विवि की शांति स्थापना में सहयोग करेगा. Also Read - भाजपा सांसद के 'तालिबानी' बयान पर भड़के एएमयू के छात्र, राष्‍ट्रपति को लिखी चिट्ठी

नए प्रॉक्टर बनाए गए प्रो. मो. वसीम अली एएमयू कोर्ट, एकेडमिक काउंसिल, विधि विभाग और वीमेंस स्टडी सेंटर, बोर्ड ऑफ स्टडीज के सदस्य रहे हैं. वह प्रशासनिक मामलों का लंबा अनुभव रखते हैं. एएमयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष फैजुल हसन ने कहा, “यह हमारी जंग की शुरुआती जीत है. 15 दिसंबर को एएमयू पर हमला हुआ था. अभी कई लोग कतार में हैं.”