नई दिल्ली: पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर केंद्र सरकार ने सात दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है. इस दौरान देशभर में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा आधा झुका रहेगा और अटलजी के निधन पर शोक मनाया जाएगा. इसके अलावा दिल्ली सरकार ने अटलजी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए दिल्ली में कल यानी शुक्रवार को छुट्टी की घोषणा की है. अटलजी के निधन पर शोक जताते हुए शुक्रवार को दिल्ली में सारे सरकारी ऑफिस, सारे सरकारी और प्राइवेट स्कूल और बाकी संस्थान बंद रहेंगे. Also Read - दिल्ली: कोरोना संक्रमित 1 लाख पार, मृतकों की संख्या 3 हज़ार से ऊपर, केजरीवाल बोले- फ़िक्र न करें लोग

अटलजी के निधन पर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली में अवकाश की घोषण की है. सिसोदिया ने ट्वीट करते हुए लिखा है, ”शुक्रवार को दिल्ली में सारे सरकारी ऑफिस, सारे सरकारी और प्राइवेट स्कूल और संस्थान बंद रहेंगे, यह हमारे प्रिय अटलजी को एक श्रद्धांजलि होगी.”

LIVE: शुक्रवार सुबह 9 बजे बीजेपी मुख्‍यालय लाया जाएगा अटलजी का पार्थिव शरीर, 1.30 बजे शुरू होगी अंतिम यात्रा

केजरीवाल ने बताया देश का नुकसान

इससे पहले गुरुवार सुबह ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने एम्स जाकर पूर्व पीएम अटलजी की तबीयत का हालचाल जाना था. अरविंद केजरीवाल ने अटलजी के निधन पर दुख जताया है और इसे भारत के लिए एक बड़ा नुकसान बताया है. केजरीवाल ने ट्वीट किया, ”मैं बहुत दुखी हूं, ये भारत के लिए एक बड़ा नुकसान है.”

पीएम मोदी ने जताया दुख

पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा है, ”अटल जी आज हमारे बीच में नहीं रहे, लेकिन उनकी प्रेरणा, उनका मार्गदर्शन, हर भारतीय को, हर भाजपा कार्यकर्ता को हमेशा मिलता रहेगा. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और उनके हर स्नेही को ये दुःख सहन करने की शक्ति दे. ओम शांति!”

‘मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूं, लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं?’

राष्ट्रपति कोविंद भी दुखी

पीएम मोदी के अलावा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी पूर्व पीएम अटलजी के निधन पर शोक जताया है. राष्ट्रपति के ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया है जिसमें लिखा है, ”पूर्व प्रधानमंत्री व भारतीय राजनीति की महान विभूति श्री अटल बिहारी वाजपेयी के देहावसान से मुझे बहुत दुख हुआ है. विलक्षण नेतृत्व, दूरदर्शिता तथा अद्भुत भाषण उन्हें एक विशाल व्यक्तित्व प्रदान करते थे. उनका विराट व स्नेहिल व्यक्तित्व हमारी स्मृतियों में बसा रहेगा.”

VIDEO में देखें बच्‍चों से वाजपेयी का दुलार, वीरता पुरस्‍‍कार देने के बाद उठा लिया गोद में

एम्स ने गुरुवार शाम साढ़े पांच बजे के करीब अटलजी के निधन की घोषणा की थी. एम्स द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन में बताया गया कि अटलजी को बचाने का काफी प्रयास किया गया लेकिन आज हमने उन्हें खो दिया. अटलजी के निधन पर देशभर में शोक की लहर है और आम से लेकर खास सभी लोग दुखी हैं. पीएम मोदी और राष्ट्रपति कोविंद के अलावा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी अटलजी के निधन पर दुख जताया है.

अटल-आडवाणी की बेमिसाल दोस्ती, दोनों नेता दिल्ली की सड़कों पर चलाते थे स्कूटर और खाते थे चाट

दो महीने से थे भर्ती

अटलजी करीब दो महीने से एम्स में भर्ती थे. बुधवार को उनकी हालत और बिगड़ गई थी और उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था. इसके बाद से ही पीएम, मंत्रियों, नेताओं का उनसे मिलने का सिलसिला जारी हो गया था. उन्हें गुर्दे में संक्रमण, मूत्र नली में संक्रमण, पेशाब की मात्रा कम होने और सीने में जकड़न की शिकायत के बाद 11 जून को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, दिल्ली (एम्स) में भर्ती कराया गया था.

अटल बिहारी वाजपेयीः ‘बाप जी’ के साथ लॉ में लिया दाखिला, पिता-पुत्र को देखने आते थे लोग

मधुमेह से ग्रस्त वाजपेयी जी की एक ही किडनी काम कर रही थी. वर्ष 2009 में उन्हें अटैक भी आया था, जिसके बाद उन्हें लोगों को पहचानने सहित कई तरह की समस्याएं होने लगीं. बाद में उन्हें डिमेशिया की दिक्कत हो गई थी. बुधवार को उनकी हालत बिगड़ गई. इसके बाद उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था. निमोनिया के कारण उनके दोनों फेफड़े सही से काम नहीं कर रहे हैं और किडनी भी कमजोर हो गई थी. 9 हफ्ते से वह एम्स में भर्ती थे.