पटना: राष्ट्रीय जनता दल नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में विपक्षी पार्टियों का महागठबंधन बरकरार है और राज्य की सभी 40 सीटों के लिए इसके उम्मीदवारों की घोषणा होली के बाद की जाएगी. यादव ने बुधवार को दिल्ली से पटना हवाईअड्डे पहुंचने के बाद मीडि‍याकर्मियों को बताया, महागठबंधन में सब ठीक है. यह एकजुट एवं मजबूत है और हम चुनाव प्रचार में कड़ी टक्कर देंगे. सभी मतभेद सुलझा लिए गए हैं. हम होली के बाद अपने उम्मीदवारों की घोषणा करेंगे.” वहीं, कांग्रेस ने कहा कि मीडिया पर आ रही खबरें महज अटकलें हैं.

शरद यादव की पार्टी भी शामिल
यादव सीटों के बंटवारे पर चर्चा के लिए पिछले कुछ दिनों से दिल्ली में थे. उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले में शहीद हुए जवा‍नों के सम्मान में राजद होली नहीं मनाएगी. शरद यादव उम्मीदवारों की घोषणा को लेकर ज्यादा स्पष्ट दिखे और राष्ट्रीय राजधानी में उन्होंने कहा कि 22 मार्च को पटना में होने वाले संवाददाता सम्मेलन में उम्मीदवारों की घोषणा की जाएगी. उनकी पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल (एलजेडी) भी महागठबंधन का हिस्सा है.

कांग्रेस को 9 सीटों वाली खबर शरारतपूर्ण
वहीं, बिहार से कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने अपना नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि उनकी पार्टी के केवल नौ सीटों पर लड़ने वाली खबरें शरारतपूर्ण हैं. उन्होंने कहा, हमारी राज्य चुनाव समिति ने पिछले हफ्ते पटना में बैठक की थी और मामले में अंतिम निर्णय लेने के लिए राहुल गांधी को अधिकृत किया था. सीटों की संख्या पर पार्टी के भीतर कोई बातचीत नहीं हुई है. मीडिया में आ रही खबरें महज अटकले हैं.

11 सीटों से कम तो राहुल को मंजूर नहीं होंगी
कांग्रेस कितनी सीटों पर लड़ेगी यह पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ”शुरुआत में हम 15 सीट चाहते थे. बाद में हम इसे कम करने पर सहमत हुए. लेकिन मुझे नहीं लगता कि 11 से कम सीट राहुल गांधी को भी मंजूर होंगी.”

शत्रुघ्न सिन्हा को पटना साहिब सीट से उतारा जाएगा
वरिष्ठ नेता ने कहा, “गांधी 23 मार्च को पूर्णिया में रैली के साथ बिहार में चुनाव प्रचार की शुरुआत करेंगे. ऐसी संभावना है कि कांग्रेस में आज शामिल हुए भाजपा सांसद उदय सिंह को वहां से कांग्रेस की टिकट पर उतारा जाएगा. यह भी लगभग तय है कि अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा को हमारी टिकट पर उनकी पटना साहिब सीट से उतारा जाएगा. भाजपा से उनका इस्तीफा और कांग्रेस में उनका प्रवेश कुछ दिनों में हो जाएगा.”

दरभंगा सीट भी कांग्रेस-आरजेडी के बीच झगड़े का कारण
दरभंगा सीट भी कांग्रेस और राजद के बीच झगड़े का कारण बनी हुई है. कांग्रेस कीर्ति आजाद को यहां से चुनावी मैदान में उतारना चाहती है जिन्होंने पांच साल पहले भाजपा की टिकट पर यह सीट जीती थी वहीं राजद भी यह सीट चाहती है. कांग्रेस नेता ने कहा, ” यह सीट राजद के मोहम्मद अली अशरफ फातमी का गढ़ मानी जाती है जो फिर से यहां से टिकट चाहते हैं. इसका भी हल निकालना है.”