नई दिल्ली. पुलवामा आतंकवादी हमले को लेकर शनिवार को यहां सर्वदलीय बैठक चल रही है. संभावना है कि इस बैठक में केंद्र सरकार विभिन्न दलों के शीर्ष नेताओं को इस चुनौती से निपटने के लिए उठाए गए अपने कदमों से अवगत कराएगी. दलों को पुलवामा में हुए हमले और सरकार ने अब तक इस संबंध में क्या-क्या कदम उठाएं हैं इस बारे में सूचित किया जाएगा. अकाली दल के नरेश गुजराल, रालोसपा के उपेंद्र कुशवाहा एवं राजद के जय प्रकाश नायाराण यादव भी इस बैठक में शामिल हैं. Also Read - 15 अगस्त के बाद जम्मू-कश्मीर में बहाल की जाएगी 4जी इंटरनेट सेवा, जानिए कैसे पूरी होगी प्रक्रिया

Also Read - पूर्व IAS अधिकारी शाह फैसल ने छोड़ी राजनीति, प्रशासन सेवा में फिर हो सकते हैं शामिल

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने यह बैठक बुलाई है जिसमें कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया, तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंदोपाध्याय एवं डेरेक ओ’ब्रायन, शिवसेना के संजय राउत, तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के जितेंद्र रेड्डी, भाकपा के डी राजा, नेशनल कॉन्फ्रेंस के फारुक अब्दुल्ला और लोजपा के रामविलास पासवान समेत कई अन्य नेता शामिल हैं. Also Read - जम्मू-कश्मीर में नेताओं पर बढ़े हमले पाकिस्तान की हताशा: भाजपा

अमेरिका ने कहा- भारत को आत्मरक्षा का पूरा अधिकार, वह हर संभव मदद को तैयार

40 जवान हुए हैं शहीद

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों पर हुए सबसे बड़े आतंकवादी हमलों में से एक में सीआरपीएफ के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए हैं. पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है. राजनीतिक पार्टियों ने हमले के बाद एकजुटता दिखाई है और इस मामले में राजग सरकार की कार्रवाई को अपना समर्थन दिया है.

किसी के जेब में रखे छुट्टी के एप्लिकेशन तो किसी की पर्स-घड़ी से हुई पहचान, 40 जवानों के परिजनों का बुरा हाल

पीएम ने ये कहा है

प्रधानमंत्री ने कड़ा रुख अपनाते हुए कहा है कि हमले के लिए जिम्मेदार लोगों को दंडित किया जाएगा और उनकी सरकार ने पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय समुदाय के भीतर अलग-थलग करने के लिए कूटनीतिक आक्रामकता दिखानी शुरू कर दी है.