jharkhandmapstory

भारत के उत्तरी राज्य झारखंड में १३ सीटों के लिए रविवार शाम को चुनाव प्रचार थम गया । इन सीटों पर मंगलवार यानी 25 नवंबर को मतदान होंगे। चुनाव प्रचार के आखरी दिन सभी सियासी  दलों ने अपना पूरा दम खम लगाकर मतदाताओं को अपनी और आकर्षित करने की कोशिश की।

सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम: चुनावो के लिए सभी चुनावआयोग के अधिकारी और सरकारी अफसर मतदान केंद्रों पर पहुंच रहे है। चुनावआयोग ने यहाँ निष्पक्ष चुनाव करने के लिए कमर कसली है। आपको बता दे की झारखंड एक नक्सल प्रभावित राज्य है और वहा चुनावो के दौरान नक्सली हमले के ख़तरा हमेशा बना रहता है। इन सभी १३ सीटों में तो नक्सलवादियो की मौजूदगी काफी ज़्यादा है , इसीलिए प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम किये है। अद्र्धसैनिक बलों और पुलिस के 40 हजार जवानों को तैनात किया गया है

नेताओं की प्रतिष्ठा दाव पर: कल होने वाले मतदान में कई दिग्गजों का भविष्य ईवीएम मशीनो में बंद होजायेगा। इन में सबसे प्रमुख नही कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव भगत जिनके खिलाफ एजेएसयू के राज्य इकाई के प्रमुख किशोर भगत। विशेषज्ञों का मानना है की इन दोनों के बीच काटें की टक्कर हो सकती है। इसके अलावा लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी से प्रदेश अध्यक्ष गिरिनाथ सिंह गढ़वा से अपना भाग्य की आजमाएंगे। भाजपा से जयप्रकाश सिंह भोक्ता, समीर उरांव, हरेकृष्ण सिंह, ब्रजमोहन राम चुनावी मैदान में है।

पहले चरण के निर्वाचन क्षेत्र: चतरा, गुमला, बिशुनपुर, लोहरदगा, मनिका, लातेहार, पांकी, डालटनगंज, विश्रामपुर, छतरपुर, हुसैनाबाद, गढ़वा और भवनाथपुर

कुल मतदान केंद्र:  मंगलवार को कुल 3961 मतदान केंद्रों पर वोट डाले जायेंगे। यहाँ से कुल १९९ प्रत्याशी चुनाव मैदान में है।