सेना प्रमुख बिपिन रावत ने अखिल भारतीय संयुक्त डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) पार्टी के बारे में बयान क्या दिया, हंगामा मच गया! उन्होंने कहा था कि असम में एआईयूडीएफ पार्टी का उत्थान मुस्लिमों के सहयोग से बीजेपी से ज्यादा तेजी गति से हो रहा है, क्योंकि पाकिस्तान और चीन भारत को अस्थिर करने के लिए बांग्लादेशी प्रवासियों को भारत भेज रहे हैं.

एआईयूडीएफ प्रमुख और सांसद बदरुद्दीन अजमल ने सेना प्रमुख के बयान को आश्चर्यजन बताते हुए कड़ा विरोध जताया. उधर, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के लोकसभा सदस्य असदुद्दीन ओवैसी ने भी इस बयान की आलोचना की और कहा कि सेना प्रमुख अपने पद की गरिमा भूलकर बिना संवैधानिक अधिकार के राजनीतिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहे हैं और भाजपा के उत्थान की चिंता कर रहे हैं.

People say we are a Muslim party which is false: AIUDF chief Badruddin Ajmal | आर्मी चीफ के बयान पर बिफरे AIUDF चीफ बदरुद्दीन अजमल, कहा- हम भी भारतीय

People say we are a Muslim party which is false: AIUDF chief Badruddin Ajmal | आर्मी चीफ के बयान पर बिफरे AIUDF चीफ बदरुद्दीन अजमल, कहा- हम भी भारतीय

आइए जानते है कौन हैं बदरुद्दीन अजमल

मौलाना बदरुद्दीन अजमल ने साल 2005 में ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फंट का गठन किया. उनका परफ्यूम का व्यवसाय है. प्राप्त जानकारी के अनुसार उन्होंने साल 1950 में अपना घर छोड़ा और मुंबई चले गए. वहां उन्होंने अगरवुड और दहन अल औध का बिज़नस किया. वह इसे असम से मंगाकर मुंबई में बेचते. कुछ सालों बाद अजमल ने दुबई में भी कारोबार करना शुरू किया. 90 के दशक में उनकी कंपनी ने मध्‍य-पूर्व के कई देशों में कारोबार फैलाया.

ख़बरों के अनुसार अजमल का परिवार असम के नागांव जिले के होजाई कस्‍बे के अधिकतर हिस्‍से का मालिक है. अजमल का वहां आलिशान घर है. उनके पास अलग-अलग डिजाइन व रंगों की लगभग 20 गाड़‍ियां हैं और अंगरक्षकों के लिए अलग बंगला है. अजमल का परिवार एशिया का सबसे अमीर एनजीओ (मरकज़-उल मारिस) चलाता है. मौजूदा समय में अजमल का कपड़ों, रियल एस्टेट, चमड़ा, हेल्थकेयर, शिक्षा और इत्र का कारोबार है.

सियासी सफर

2005 में ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फंट गठन करने के बाद वह असम की राजनीति में सक्रीय हो गए. 2006 के विधानसभा चुनाव में एआइयूडीएफ को महज 10 सीटें मिली थीं, मगर 2011 में यह आंकड़ा बड़ा और मुस्लिम बहुल निर्वाचन क्षेत्रों में अजमल की पार्टी ने 18 सीटें जीती. 2014 के लोकसभा चुनाव में उसने तीन सीटें जीतीं. 2009 में एआइयूडीएफ का केवल एक सांसद था. 2016 के असम विधानसभा चुनाव में अजमल की पार्टी ने 126 सीटों में से 13 सीटों पर जीत दर्ज की. इस चुनाव में उसका वोट शेयर 13 प्रतिशत रहा.

बहरहाल, सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की टिप्पणी पर रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया. ‘यूपी इन्वेस्टर्स समिट’ के सत्र में हिस्सा लेने आईं सीतारमण ने रावत के बयान के बारे में पूछे जाने पर संवाददाताओं से कहा “मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती. कोई कुछ भी कहता है… कोई किसी बारे में बात करता है. उस पर मैं कोई प्रतिक्रिया क्यों दूं.