नई दिल्ली: लखनऊ में सीएए के विरोध में हुई हिंसा के आरोपियों से वसूली का पोस्टर लगाने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने नाराजगी जताते हुए इस मामले पर रविवार यानी आज 3 बजे सुनवाई करने का फैसला लिया है. चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने योगी सरकार को भी नोटिस जारी किया है. कोर्ट ने साथ ही यह जवाब भी मांगा है कि आखिरकार किस नियम के तहत ये पोस्टर लगाए. Also Read - यूपी के ग्रामीणों ने गावों में प्रवेश पर लगाया प्रतिबंध, उल्लंघन करने पर लगेगा जुर्माना, पूरा गांव क्वारंटीन

चीफ जस्टिस गोविन्द माथुर और जस्टिस रमेश सिन्हा की डिवीजन बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी. गौरतलब हो कि रविवार को ज्यादातर आपातकालीन मामलों की सुनवाई होती है. हाई कोर्ट ने इस मामले में भी आपातकालीन सुनवाई का फैसला किया है.

बता दें कि साल 2019 में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नागरिकता कानून के खिलाफ हिंसा हुई थी, जिसमें बड़े पैमाने पर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया था. इसके जवाब में यूपी सरकार ने उपद्रव में शामिल लोगों से वसूली करने का फैसला किया था.