प्रयागराज: समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता एवं पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के भतीजे धर्मेंद्र यादव ने भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य के बदायूं संसदीय क्षेत्र से निर्वाचन को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में चुनौती दी है. उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की पुत्री संघमित्रा ने हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में बदायूं सीट से सपा के उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव को शिकस्त दी थी.

पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव ने अपने वकील एनके पांडेय के जरिए दायर इस याचिका में संघमित्रा के निर्वाचन को चुनौती देने के लिए मतगणना में अनियमितताओं सहित कई आरोप लगाये हैं. याचिका दायर करते समय धर्मेंद्र यादव नियम के मुताबिक रजिस्ट्रार जनरल के समक्ष स्वयं मौजूद थे.

इस बीच, बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार रंगनाथ मिश्रा ने भी शुक्रवार को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर भाजपा उम्मीदवार रमेशचंद बिंद के भदोही लोकसभा सीट से निर्वाचन को चुनौती दी. मिश्रा ने अपनी याचिका में कहा है कि विजेता उम्मीदवार का नामांकन पत्र नियम के अनुसार प्रस्तुत नहीं किया गया था और गलत तरीके से इसे स्वीकार भी कर लिया गया. नियम के मुताबिक, चुनाव से संबंधित इन सभी याचिकाओं को मुख्य न्यायाधीश के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा और वह इन याचिकाओं पर सुनवाई के लिए पीठ नामित करेंगे.

बंगाल से नहीं जुड़ा है ‘जय श्रीराम’ नारा, लिंचिंग के लिए हो रहा इसका प्रयोग: अमर्त्य सेन

मध्य प्रदेश में 10 हजार महिलाएं बनेंगी राजमिस्त्री, प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन, कांग्रेस सरकार देगी प्रशिक्षण