नई दिल्ली। 2019 चुनाव के मद्देनजर बिहार में बीजेपी-जेडीयू में सीट बंटवारे पर खींचतान के बीच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि नीतीश कुमार से उनकी पार्टी का गठबंधन नहीं टूटेगा. एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि हमारा गठबंधन बिहार में सभी 40 सीटों पर जीतेगा. 2019 में भी विपक्ष के महागठबंधन की हार होगी. शाह ने कहा कि हम बिहार को बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर निकालेंगे.

नीतीश संग शाह की मुलाकात

सम्पर्क फॉर समर्थन प्रोग्राम के बहाने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आज पटना में बिहार के सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात की. दोनों के बीच करीब 45 मिनट तक बातचीत हुई. बताया जाता है कि इस दौरान सीटों के बंटवारे से लेकर कई मुद्दों पर दोनों ने अपनी राय रखी. आज रात नीतीश और अमित शाह डिनर पर भी मिलेंगे. यानि दोनों के बीच एक ही दिन में दो बार मुलाकात हो रही है.

पटना में नीतीश कुमार से मिले अमित शाह, 45 मिनट तक हुई बातचीत

बीजेपी और जेडीयू के सूत्रों का कहना है कि सीटों के बंटवारे पर भले ही विस्तृत चर्चा न हो, लेकिन उम्मीद की जा रही है कि शाह और कुमार के बीच इस संबंध में मोटी-मोटी सहमति बन सकती है.

सीट बंटवारे पर घमासान

बता दें कि सीट बंटवारे पर दोनों पार्टियों के बीच काफी समय से मतभेद सामने आ रहे हैं. दोनों पार्टियां ज्यादा से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती हैं. बीजेपी और जेडीयू नेताओं की तरफ से बयानों पर बयान आते रहे और ज्यादा सीटों पर दावा जताया गया. फिर जेडीयू ने कहा कि उसने विधानसभा चुनाव में ज्यादा सीटें जीतीं इसलिए उसे ज्यादा लोकसभा सीटें मिलनी चाहिए.

शुरुआत जेडीयू की तरफ से हुई थी जब उसके नेता ने कहा था कि बिहार में जेडीयू ज्यादा मजबूत है इसलिए उसे 25 सीटें मिलनी चाहिए. इस बयान ने एनडीए में खलबली मचा दी थी. वहीं, बीजेपी नेताओं ने कम से कम 22 सीटों पर लड़ने की बात कही. बिहार में कुल 40 सीटें हैं. एनडीए में चार बड़ी पार्टियां हैं. ऐसे में अगर बीजेपी-जेडीयू के बीच ही सीटों पर पेंच फंस जाए को रामविलास पासवान की एलजेपी और उपेंद्र कुशवाहा की एलएनजेपी को लेकर सहमति कैसे बन पाएगी.