लखनऊ: भाजपा में शामिल होने के बारे में अभी पत्ते नहीं खोल रहे सपा के पूर्व नेता एवं राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने बुधवार को कहा कि राजनीति में उनकी जो भी हैसियत है, वह योगी (आदित्यनाथ) और (नरेन्द्र) मोदी के लिए है. Also Read - इजराइल को क्लोरोक्वीन भेजने के लिए शुक्रिया, मेरे प्रिय मित्र नरेंद्र मोदी: बेंजामिन नेतन्याहू

सिंह ने कहा, ‘मैं (भाजपा में शामिल होने के लिए) कोई प्रयास नहीं कर रहा हूं. मैं मोदी जी को पसंद करता हूं और उनके समर्थन में खडा हूं. इससे पहले विधानसभा चुनाव के दौरान भी मैंने भाजपा का खुलकर समर्थन किया था लेकिन भाजपा में शामिल नहीं हुआ था. यह मेरे हाथ में नहीं है कि मैं भाजपा में जाऊं या नहीं जाऊं.’ सिंह ने कहा, ‘मैं अमर सिंह हूं और मेरे नाम की जो भी हैसियत है, वह योगी और मोदी के लिए है न कि बुआ (बसपा सुप्रीमो मायावती) और बबुआ (सपा मुखिया अखिलेश यादव) के लिए.’’ वह भाजपा में शामिल होने की संभावना के बारे में पूछे गये सवाल का जवाब दे रहे थे. Also Read - इस वृद्ध महिला ने जिंदगी भर की जमापूंजी 10 रुपए पीएम केयर्स फंड में दान दिए

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर से कथित बातचीत और आजमगढ़ से राजभर की पार्टी से चुनाव लडने की संभावना के बारे में पूछने पर सिंह ने कहा, ‘मेरी राजभर से ऐसी कोई बात नहीं हुई. मेरा (राज्यसभा सांसद का) चार वर्ष का कार्यकाल रह गया है. मैं किसी एक क्षेत्र से बंधना नहीं होना चाहता हूं. मैं पूरे उत्तर प्रदेश का भ्रमण करना चाहता हूं और अगर संभव हो तो पूरे देश का.’’ Also Read - पीएम ने ट्वीट कर बताया,...तो यह मोदी को विवादों में घसीटने की कोई खुराफात लगती है

दूसरे राज्‍यों में नहीं जा सकेंगे NRC के अंतिम मसौदे में छूटे लोग, 40 लाख लोगों के बायोमीट्रिक डाटा जमा करेगा केंद्र

टेलीफोन पर दिये साक्षात्कार में उन्‍होंने कहा, ‘मैं कोई बडा नेता नहीं हूं लेकिन देश में मेरी कुछ पहचान है. अगर मैं इसका उपयोग कर सकता हूं तो वह मोदी जी के समर्थन में होगा.’’ उन्होंने हाल ही में प्रदेश के राजनीतिक हलकों में उस समय सुगबुगाहट पैदा कर दी, जब वह ‘ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी’ में शामिल हुए और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के नामचीन उद्योगपतियों के बीच अमर सिंह के नाम का उल्लेख किया.

ममता का इशारा, 2019 के चुनाव में विपक्षी गठबंधन नहीं करेगा पीएम पद के उम्‍मीदवार की घोषणा

सेरेमनी के ही दिन शाम को सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी दिखाये जाने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए थे. सिंह 23 जुलाई को योगी से मिले थे. उसके बाद राजनीतिक हलकों में अटकलें लगायी जाने लगीं कि वह भाजपा में शामिल हो सकते हैं. आधिकारिक सूत्रों ने बैठक की पुष्टि की लेकिन तत्काल यह पता नहीं चल सका कि बैठक में बात क्या हुई.

दिल्‍ली में विपक्षी नेताओं से मिलीं ममता, पीएम पद की उम्मीदवारी से किया इंकार

सिंह ने हाल ही में कहा था, ‘‘भाजपा बडी राजनीतिक पार्टी है. मैं यह नहीं कहूंगा कि मौका मिलने पर मैं भाजपा में शामिल नहीं होउंगा लेकिन मुझे मौका कौन दे रहा है. मैंने कोई आग्रह भी नहीं किया है.’