नई दिल्लीः पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले पहले सर्वदलीय जत्थे का हिस्सा होंगे. इसके साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि मनमोहन सिंह पाकिस्तान के निमंत्रण पर करतारपुर गलियारा उद्घाटन समारोह में शामिल नहीं होंगे. मुख्यमंत्री ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी 550वें प्रकाश पर्व समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया.

दरअसल, कुछ चैनलों पर ऐसी खबरें प्रसारित हो गईं कि पूर्व प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान का न्योता स्वीकार कर लिया है और वह करतारपुर गलियारा के उद्घाटन समारोह में शामिल होंगे. अमरिंदर ने स्पष्ट किया कि मनमोहन करतारपुर गलियारा के उद्घाटन समारोह के लिए पाकिस्तान नहीं जाएंगे. वह सिर्फ उस सर्वदलीय जत्थे में शामिल होंगे जो करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाएगा. उन्होंने कहा, ‘‘करतारपुर गलियारा के उद्घाटन समारोह के लिए मेरे पाकिस्तान जाने का कोई सवाल नहीं है. मुझे लगता है कि मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे.’’

इस महिला Tik Tok स्टार को बीजेपी से मिला टिकट, आदमपुर में कुलदीप बिश्नोई को देंगी टक्कर

उन्होंने यह भी कहा कि वह तब तक पाकिस्तान नहीं जाएंगे जब तक यह पड़ोसी देश सीमापार आतंकवाद पर रोक नहीं लगाता. गौरतलब है कि पाकिस्तान की सरकार ने पिछले दिनों कहा था कि वह नौ नवंबर को होने वाले करतारपुर गलियारे के उद्घाटन समारोह में मनमोहन सिंह को आमंत्रित करेगी. पाकिस्तान सिख धर्म के संस्थापक गुरू नानक देव की 12 नवंबर को होने वाली 550वीं जयंती से कुछ दिनों पहले नौ नवंबर को करतारपुर गलियारा खोल रहा है.

अमरिंदर सिंह ने राष्ट्रपति कोविंद और प्रधानमंत्री मोदी से अलग-अलग मुलाकात की और गुरु नानक देव की जयंती के पावन अवसर पर होने वाले कार्यक्रमों में शामिल होने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों ने पंजाब सरकार के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि पाकिस्तान के साथ करतारपुर गलियारे के उद्घाटन का कार्यक्रम तय होने के बाद कोविंद और मोदी के दौरे का कार्यक्रम तय किया जाएगा.

परेश रावल ने 2017 की अपनी टिप्प्णी के लिए डॉक्टर कफील खान से माफी मांगी, मिला ये जवाब

एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के साथ कार्यक्रमों का ब्योरा साझा किया गया है और उनसे अपनी सुविधा के मुताबिक इन कार्यक्रमों शामिल होने का आग्रह किया गया है. बहरहाल, उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने विशेष रूप से यह आग्रह किया कि राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों करतारपुर गलियारा खोलने से जुड़े डेरा बाबा नानक वाले कार्यक्रम और सुल्तानपुर लोधी में 12 नवंबर को होने वाले मुख्य कार्यक्रम में शामिल हों. अमरिंदर ने प्रधानमंत्री मोदी से यह भी आग्रह किया कि सर्वदलीय जत्थे के पाकिस्तान में ननकाना साहिब जाने को लेकर राजनीतिक स्वीकृति दिलाने के लिए वह निजी तौर पर दखल दें.

पंजाब सरकार के प्रवक्ता के अनुसार मुख्यमंत्री ने विदेश मंत्री एस जयशंकर को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि ननकाना साहिब जाने वाले शिष्टमंडल के दौरे और पाकिस्तान से ‘नगर कीर्तन’ पंजाब आने को औपचारिक मंजूरी दी जाए. पंजाब सरकार ने प्रकाश पर्व के मौके पर पांच से 15 नवंबर तक कई कार्यक्रमों का आयोजन किया है.