नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ फोन पर बात की. इस दौरान पीएम मोदी ने ट्रंप के साथ कोरोना को लेकर चर्चा की. प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया को कोरोना मुक्त बनाने के लिए साथ मिलकर काम करना महत्वपूर्ण है. उन्होंने ट्रंप से कहा, “दुनिया को स्वस्थ और कोविड-19 मुक्त बनाने के लिये राष्ट्रों के लिये जितना संभव हो सके मिलकर काम करना महत्वपूर्ण है.” Also Read - Coronavirus In World Update: पूरी दुनिया कोरोना के खौफ में, अमेरिका में मौत का आंकड़ा 1 लाख के करीब, जानें बड़े देशों का हाल

बता दें कि इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने घोषणा की कि अमेरिका कोविड-19 रोगियों के उपचार के लिए तथा ‘‘अदृश्य शत्रु’’ से लड़ाई में मदद के लिए भारत को बड़ी संख्या में वेंटिलेटर देगा. उन्होंने भारत और अमेरिका के बीच गहन साझेदारी का जिक्र किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना ‘‘अच्छा मित्र’’ बताया. ट्रंप ने यह भी कहा कि अमेरिका और भारत घातक कोरोना वायरस के इलाज के लिए टीका विकसित करने में आपस में सहयोग कर रहे हैं. Also Read - चीन से तनाव पर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का बयान- 'नरेंद्र मोदी के भारत को कोई आंख नहीं दिखा सकता'

पीएम मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति का धन्यवाद करते हुए कहा, “धन्यवाद, राष्ट्रपति ट्रंप. इस महामारी के खिलाफ हम सभी सामूहिक रूप से लड़ाई लड़ रहे हैं. ऐसे समय में, यह आवश्यक है कि जितना संभव हो सके राष्ट्र हमारे विश्व को स्वस्थ बनाने और COVID19 से मुक्त होने के लिए एक साथ काम करें. भारत-अमेरिका की दोस्ती यूं ही मजबूत बनी रहे.” Also Read - भारत से LAC पर तनाव के बीच चीनी विदेश मंत्रालय का आया ये बयान

गौरतलब है कि पिछले वर्ष दिसंबर में कोरोना वायरस महामारी चीन से शुरू हुई थी और अब यह पूरी दुनिया में फैल चुकी है. विश्वभर में कोरोना वायरस के कारण 3,07,666 लोगों की मौत हो चुकी है और 45 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं. भारत में शुक्रवार तक कोविड-19 के कुल मामले 85,000 का आंकड़ा पार कर गए जो चीन में संक्रमण के कुल 82,933 मामलों से अधिक हैं.

ट्रम्प ने ट्वीट किया, ‘‘मुझे यह घोषणा करते हुए गर्व का अनुभव हो रहा है कि भारत में अपने मित्रों को अमेरिका वेंटिलेटर्स दान करेगा.’’ हालांकि व्हाइट हाउस ने अभी यह नहीं बताया कि कितने वेंटिलेटर दान किए जाएंगे.

शुक्रवार को कैंप डेविड जाने के लिए मरीन वन में सवार होने से पहले ट्रम्प ने संवाददाताओं को बताया, ‘‘हम भारत में बहुत सारे वेंटिलेटर भेज रहे हैं. मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है. हमारे पास वेंटिलेटरों की बड़ी संख्या में आपूर्ति है.’’ उन्होंने व्हाइट हाउस के रोज गार्डन में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम मिलकर इस अदृश्य शत्रु को पराजित करेंगे. हम इस महामारी के वक्त भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़े हैं.’’

ट्रम्प के अनुरोध पर पिछले महीने भारत ने अमेरिका में कोविड-19 के मरीजों इलाज के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की पांच करोड़ गोलियां भेजी थीं. अमेरिका इस महामारी से सबसे बुरी तरह प्रभावित देशों में शामिल है. जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के अनुसार अब तक अमेरिका में 87,530 लोगों की संक्रमण के कारण मौत हो चुकी है. देश में कोरोना वायरस संक्रमण के अब तक कुल 14 लाख से अधिक मामले सामने आए हैं.