नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रोत्साहन पैकेज की चौथी किस्त जारी किए जाने के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की तारीफ की है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि शनिवार को घोषित उपायों और सुधारों से काफी व्यावसायिक अवसर पैदा होंगे और ये आर्थिक सुधार में योगदान करेंगे. बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को प्रोत्साहन आर्थिक पैकेज की चौथी किस्त की घोषणा की. पैकेज की इस किस्त में कोयला, रक्षा विनिर्माण, विमानन, अंतरिक्ष, बिजली वितरण आदि क्षेत्रों में नीतिगत सुधारों पर जोर है. Also Read - सोनिया गांधी की मोदी सरकार से डिमांड- जरूरत मंदों और प्रवासी मजदूरों को केंद्र 7,500 रुपये दे

जिसके बाद पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा- “कोयला, खनिज, रक्षा, विमानन, अंतरिक्ष और परमाणु ऊर्जा जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों को आज वित्त मंत्री द्वारा घोषणाओं में शामिल किया गया है. घोषित किए गए उपायों और सुधारों से कई व्यावसायिक अवसर पैदा होंगे और आर्थिक परिवर्तन में योगदान मिलेगा.” Also Read - Lockdown 5.0: शुरू हुआ सोच-विचार! जिम, धार्मिक स्थल खोलने से लेकर इन 11 शहरों पर होगा सरकार का फोकस

इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रक्षा, विमानन, कोयला और कुछ अन्य क्षेत्रों में ऐतिहासिक सुधार की पहल करने के लिये शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की सराहना करते हुए कहा कि भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिये ये अभूतपूर्व कदम हैं.

शाह ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि प्रधानमंत्री का ‘‘सुधार, कार्य निष्पादन और परिवर्तन लाने का मंत्र पिछले छह वर्षों में भारत की असाधारण (आर्थिक) वृद्धि की कुंजी है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं आज के ऐतिहासिक फैसले के लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को धन्यवाद देता हूं. यह फैसला निश्चित रूप से हमारी अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करेगा और आत्मनिर्भर भारत की ओर हमारी कोशिशों को बल प्रदान करेगा.’’

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कोयला क्षेत्र में बुनियादी ढांचा विकास के लिये 50,000 करोड़ रुपये और वाणिज्यिक खनन शुरू करना एक स्वागत योग्य नीतिगत सुधार है, जो प्रतिस्पर्धा और पारदर्शिता लाएगा. उन्होंने कहा, ‘‘कोयला उत्पादन में भाारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिये इस अभूतपूर्व कदम को लेकर मैं प्रधानमंत्री मोदी को बधाई देता हूं. एक मजबूत, सुरक्षित और सशक्त भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शीर्ष प्राधमिकता है.’’

शाह ने यह भी कहा कि रक्षा विनिर्माण में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की सीमा बढ़ा कर 74 प्रतिशत करने और कुछ चुनिंदा हथियारों के आयात पर वर्षवार समय सीमा के साथ पाबंदी लगाने से देश की आयात पर निर्भरता घटेगी. उन्होंने विमानन क्षेत्र में भविष्यवादी फैसले को लेकर भी प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया.

(इनपुट भाषा)