नई दिल्ली: देश में कोरोना महामारी के दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने आज ANI को दिए इंटरव्यू में कई अहम मुद्दों पर खुलकर चर्चा की. इस दौरान अमित शाह ने कोरोना मामले पर बोलते हुए दिल्ली में उपजी कोरोना के हालात पर चर्चा की. शाह ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया द्वारा दिए बयान जिसमें उन्होंने कहा था कि 31 जुलाई तक दिल्ली में कोरोना के कुल 5.5 लाख मामले हो जाएंगे. इस पर शाह ने कहा कि इस बारे में लोगों के मन में डर जरूर बैठा हुआ है लेकिन मैं इतना जानता हूं कि हम उस स्तर पर अभी नहीं पहुंचने वाले हैं. क्योंकि हम कोरोना के इलाज व इसके उपायों के मद्देनजर तेजी से काम कर रहे हैं. इसलिए हम कहीं बेहतर स्थिति में रहेंगे.Also Read - UP Assembly Polls 2022: भाजपा ने जारी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट, पीएम मोदी और अमित शाह सहित 30 नाम शामिल | देखिए

शाह ने आगे बोलते हुए कहा कि फिलहाल दिल्ली में कोरोना अपने तीसरे चरण यानी कम्युनिटी ट्रान्समिशन के दौर में नहीं पहुचा है. इसलिए हमें ज्यादा परेशान और भयभीत होने की जरूरत नहीं है. इसी मामले पर राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा कि भारत सरकार कोरोना के खिलाफ बेहतरीन लड़ाई लड़ रह हैं. हम राहुल गांधी को नहीं समझा सकते कुछ भी. यह काम उनकी पार्टी के नेताओं का है. कुछ लोगों के पास वक्रदृष्टि होती है. वे सभी सही चीजों में गलत खोजने का प्रयास करते हैं. भारत सरकार कोरोना के खिलाफ सख्ती से लड़ाई लड़ रही हैं. इसी कारण दुनिया के मुकाबले भारत में कोरोना के आंकड़े कहीं बेहतर स्थिति में हैं. गौरतलब है कि बीते दिनों राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी के लिए कहा था कि पीएम कोरोना के आगे सरेंडर कर चुके हैं. अमित शाह ने इसी कड़ी में आज ये जवाब दिया. Also Read - Assembly Elections 2022: भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की आज अहम बैठक, उम्मीदवारों के नाम पर लगेगी मुहर

Also Read - Dinesh Sharma's Profile: अटल बिहारी वाजपेयी ने मांगे थे जिनके लिए वोट, जानें उन दिनेश शर्मा के बारे में सब कुछ

दिल्ली में कोरोना के मद्देनजर फैसले लेने को लेकर गृहमंत्री ने कहा कि हमारे और अरविंद केजरीवाल के बीच लगातार तालमेल बना हुआ है. वह हमारे साथ लगातार जुड़े हुए हैं. फैसले लेने में भी उनकी भूमिका है. कुछ राजनीतिक बयान दिए गए होंगे लेकिन इसका कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही लड़ाई व इसके फैसले पर किसी तरह का प्रभाव नहीं पड़ने वाला है.

मनीष सिसोदिया के बयान पर बोलते हुए अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुझसे कहा कि दिल्ली सरकार की जल्द ही मदद की जाए. इसके कुछ ही समय बाद एक बैठक बुलाई गई. इस बैठक में कई अहम फैसले लिए गए. इस बैठक में टेस्टिंग, कंटेन्मेंट जोन इन सभी मामलों पर फैसले लिए गए. शाह ने कहा कि दिल्ली की स्थिति कोरोना वायरस के दौरान विकट बन चुकी थी. यहां कोरोना संक्रमित मृतकों के 350 शवों के अंतिम संस्कार किए जाने थे. यह सभी शव पेंडिंग में थे. फिर हमने तय किया कि इन सभी शवों का अंतिम संस्कार धर्म के अनुसार अगले 2 दिनों में किया जाएगा. एक भी शव को आज भी नहीं छोड़ा जा रहा है. उनका भी धर्म के अनुसार अंतिम संस्कार किया जा रहा है.

अमित शाह ने LNJP अस्पताल के दौरे के मद्देनजर कहा कि इससे स्वास्थ्यकर्मियों का उत्साह बढ़ेगा. उनके अंदर काम करने का जज्बा आएगा. मैं कई महिला नर्सों से मिला जो बेहद मजबूती के साथ कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रही हैं. शाह ने आगे कोरोना पर और LAC पर भारत-चीन तनाव पर बोलते हुए कहा कि मैं एक चीज साफ कर देना चाहता हूं कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत कोरोना के खिलाफ और LAC पर चल रहे तनाव दोनों पर ही जीत हासिल करेगा.

शाह ने आगे दिल्ली के अस्पतालों में बेड्स की स्थिति पर बोलते हुए कहा कि 14 जून के वक्त दिल्ली के अस्पतालों में 9937 बेड्स थे. लेकिन अब 30 जून तक 30, 000 बेड्स की व्यवस्था की जा रही है. इसमें से 8,000 बेड्स की व्यवस्था रेलवे डिब्बों में की गई है. साथ ही 8000 और बेड्स इसमें जोड़े जाएंगे. वहीं डीआरडीओ द्वारा 250 ICU की क्षमता वाले अस्पतालों की व्यवस्था की जा रही है. यही नहीं राधा स्वामी सत्संग बेस को केविंड सेंटर के रूप में बदल दिया गया है. यहां कुल 10,000 बेड्स की व्यवस्था की गई है.