रोहतकः केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने योग को दुनिया के सामने लाने का श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को देते हुए शुक्रवार को कहा कि योग दुनिया भर में भारत की संस्कृति का दूत बन गया है. शाह ने योग के बढ़ावा देने की दिशा में मोदी के प्रयासों की प्रशंसा की और कहा कि प्रधानमंत्री की पहल के चलते ही योग को अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिली और अब 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाता है.

शाह ने रोहतक में योग दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया और कहा कि प्रधानमंत्री के प्रस्ताव के कुछ ही महीने बाद 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ मनाने की घोषणा की. शाह ने यहां मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर व अन्य लोगों के साथ योग दिवस कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

कार्यक्रम के बाद उन्होंने ट्वीट किया, “योग भारत के प्राचीन इतिहास और विविधता का प्रतीक है. यह विश्व को स्वस्थ जीवन का मार्ग दिखा रहा है.” गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों के चलते दुनिया भर के लोग न सिर्फ योग दिवस मनाते हैं बल्कि उन्होंने योग को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा भी बना लिया है.

शाह ने एक सभा को भी संबोधित किया और लोगों को उनके जीवन में योग का महत्व बताया. इससे पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने योग को बढ़ावा देने के मोदी सरकार और अपने प्रयासों का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि हरियाणा में 80 जगहों पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है.