नई दिल्‍ली: राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में पिछले तीन दिनों से जारी हिंसा के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्री शाह की अध्‍यक्षता में मीटिंग हुई है, जिसमें दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल, दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल अनिल बैजल, पुलिस कमिश्‍नर अमूल्‍य पटनायक, कांग्रेस नेता सुभाष चौपड़ा, बीजेपी नेता मनोज तिवारी और रामबीर सिंह बिधूड़ी और अन्‍य समेत कई नेता मौजूद रहे.  इसमें हिंसा के मद्देनजर कई पहलुओं पर चर्चा की गई और विचारों का आदान प्रदान किया गया. Also Read - Covid-19: गृह मंत्री अमित शाह से लेकर यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ तक, इन राज नेताओं ने जलाए दीये

गृह मंत्रालय के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में दिल्ली में पुलिस और विधायकों के बीच समन्वय बढ़ाने का निश्चय किया गया. Also Read - प्रधानमंत्री की दीये जलाने की अपील भाजपा का छुपा एजेंडा: एचडी कुमारस्वामी

मीटिंग के बाद बाहर आए दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल कहा कि हर कोई चाहता है कि हिंसा को रोका जाए. गृह मंत्री ने आज बैठक बुलाई थी, यह सकारात्मक थी. यह निर्णय लिया गया कि सभी राजनीतिक दल यह सुनिश्चित करेंगे कि हमारे शहर में शांति आए. Also Read - लॉकडाउन: दिल्ली में बिना राशन कार्ड वालों को भी मिलेगा 5 किलो राशन, केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, गृह मंत्री अमित शाह के साथ बैठक अच्छी रही, यह तय किया गया कि सभी दल शांति बहाल करने की दिशा में कदम उठाएंगे. सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, पुलिस अपना काम कर रही है और गृह मंत्री शाह ने आश्वासन दिया है कि जितने भी बल की जरूरत होगी, उसे मुहैया कराया जाएगा.

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, खुफिया ब्यूरो के निदेशक अरविंद कुमार भी बैठक में मौजूद थे. गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि शाह ने दिल्ली के हालात पर चर्चा के लिए एक बैठक बुलाई है. इससे पहले शाह ने राष्ट्रीय राजधानी में कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा के लिए सोमवार रात को भी एक बैठक की थी.

बता दें कि उत्तर पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर भड़की हिंसा में एक हेड कांस्टेबल समेत सात लोगों की मौत हो गई. हिंसा में कम से कम 50 लोग घायल हो गए, जिनमें अर्द्धसैन्य एवं दिल्ली पुलिस के कई कर्मी भी शामिल हैं. उग्र प्रदर्शनकारियों ने घरों, दुकानों, वाहनों और एक पेट्रोप पंप में आग लगा दी थी.

उत्तर पूर्वी दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़ कर सात हुई
उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसक घटनाओं में मरने वालों की संख्या मंगलवार को बढ़ कर सात हो गई है. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सोमवार तक हिंसा में जान गंवाने वालों की संख्या चार थी, मंगलवार को यह संख्या बढ़ कर सात हो गई है. संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर सोमवार को हुई हिंसा में जान गंवाने वाले सात लोगों में दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतनलाल शामिल हैं.

पूर्वोत्तर दिल्ली के कुछ इलाकों में फिर से हिंसा
पूर्वोत्तर दिल्ली के कुछ इलाकों में मंगलवार को फिर से हिंसा हुई जहां भीड़ ने पथराव किया और बंद दुकानों में तोड़फोड़ की. पूर्वोत्तर दिल्ली में तनाव व्याप्त है. एक दिन पहले ही, संशोधित नागरिकता कानून को लेकर हुई हिंसा में एक हेड कॉन्स्टेबल सहित सात लोगों की जान जा चुकी है. मंगलवार को दिल्ली के मौजपुर मेट्रो स्टेशन के पास कबीर नगर इलाके में पथराव की घटना सामने आई है. अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है.

दिल्ली के खजुरी खास और भजनपुरा में जहां कल हिंसा और आगजनी हुई थी, इन इलाके में पुलिस तैनात कर दी गई है और धारा 144 लगा दी गई है.

(इनपुुुट: एजेंसी)