चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अमृतसर में हुए ग्रेनेड हमले के संदिग्धों के बारे में जानकारी मुहैया कराने वाले को 50 लाख रुपये का इनाम देने की सोमवार को घोषणा की है. इस विस्फोट में कम से कम तीन लोगों की मौत हुई थी. बता दें कि अमृतसर के राजासांसी के निकट अधिवाला गांव में निरंकारी भवन में यह घटना हुई थी, जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई थी व 20 अन्य लोग घायल हो गए थे. Also Read - अमरिंदर सिंह ने पाकिस्‍तान के न्‍यौते को अस्‍वीकारा, आतंकवाद और जवानों की शहादत का दिया हवाला

Also Read - अमृतसर में ग्रेनेड हमले में आतंकी एंगल, पाक खुफि‍या एजेंसी ISI की हो सकती है हरकत

अमृतसर में पगड़ीधारी दो युवकों ने फेंका ग्रेनेड, हमले के पर्याप्त सुराग: गृह मंत्रालय

मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने अपने बयान में कहा था कि प्रांरभिक जांच में खुलासा हुआ है कि दो नकाबपोश लोग, पिस्तौल दिखाते हुए हॉल की ओर गए. उन्होंने सेवादार को कब्‍जे में ले लिया और समागम में ग्रेनेड फेंक दिया उसके बाद एक मोटरसाइकिल से भाग गए. फिलहाल NIA की टीम जांच में जुटी हुई है. हमलावरों का सुराग देने वालों को राज्य सरकार ने 50 लाख का ईनाम देने का ऐलान किया है.

अधिकारियों ने बताया कि इस संबंध में कोई भी सूचना पंजाब पुलिस की हेल्पलाइन 181 पर दी जा सकती है. सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जाएगी. अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री आज दिन में अमृतसर जाएंगे. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एक टीम रविवार की रात जांचकर्ताओं और विस्फोटक विशेषज्ञों के साथ मौके पर गई थी. उन्होंने पंजाब पुलिस के शीर्ष अधिकारियों के साथ भी चर्चा की.

शहर के बाहरी इलाके में रविवार को बाइक सवार दो लोगों ने भीड़ पर ग्रेनेड फेंका. इस विस्फोट में एक उपदेशक सहित तीन लोगों की मौत हो गई जबकि 20 से ज्यादा लोग घायल हो गए. रविवार को हुए इस हमले को पुलिस ‘‘आतंकवादी घटना’’ मानकर जांच कर रही है. पुलिस ने बताया कि अमृतसर के राजा सांसी के समीप अदलीवाल गांव में निरंकारी भवन में निरंकारी पंथ के धार्मिक समागम के दौरान यह हमला हुआ. यह स्थान अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के समीप है. घटना के समय निरंकारी भवन में महिलाओं समेत सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद थे, वहां समागम चल रहा था.