चंडीगढ़: पंजाब के अमृतसर में हुए ट्रेन हादसे में राज्य सरकार के मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा ने सोमवार को नवजोत कौर सिद्धू का बचाव करते हुए कहा कि उनकी कोई गलती नहीं है. उन्होंने इस हादसे के लिए रेलवे ‘गेटमैन’ को जिम्मदार बताया. बता दें कि शुक्रवार को हुए इस हादसे में कम से कम 61 लोगों की मौत हो गई थी .

अमृतसर ट्रेन हादसा: एक और घायल ने तोड़ा दम, अबतक 62 की मौत, यूपी के 10 लोग

क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर शुक्रवार को दहशहरे के उस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंची थी जिसे देखने के दौरान दर्जनों लोग ट्रेन की चपेट में आ कर मारे गए थे.

रेल हादसे के चलते नवजोत सिंह सिद्धू को राज्य सरकार के मंत्रिमंडल से हटाए जाने की विपक्षी शिरोमणि अकाली दल की मांग को बाजवा ने खारिज कर दिया.

अमृतसर हादसा: ड्राइवर ने कहा- ब्रेक लगाई, ट्रेन धीमी हुई…लोग पत्थर फेंकने लगे तो बढ़ा दी स्पीड

बाजवा ने इस बारे में एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के सवाल के जवाब में कहा, ”श्रीमती सिद्धू की क्या गलती है….अगर वह दस मिनट लेट ही मौके पर पहुंचती तो क्या फर्क पड़ता.” उन्होंने आरोप लगाया, वास्तव में, इस मामले में दोषी पास के रेलवे फाटक का गेटमैन है.”

अमृतसर ट्रेन हादसा: क्या है पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर का कनेक्शन, क्यों लग रहे हैं आरोप

मंत्री ने कहा, ”बड़ी तादाद में लोग रेलवे पटरी पर खड़े थे . यह स्थान रेलवे फाटक से केवल 300 मीटर की दूरी पर था . क्या उसे इसकी जानकारी नहीं थी . यह गेटमैन की जिम्मेदारी है कि जब लोग पटरियों पर खड़े थे तो गेटमैन को ट्रेन को हरी झंडी नहीं देनी चाहिए थी . जब हमने पटरी पर धरना दिया तो ट्रेनों की आवाजाही रोक दी गई.”

बाजवा ने यह दावा किया कि गेटमैन ने रेलवे फाटक बंद कर दिया. उन्होंने कहा, ” जब उसे इस बात की जानकारी थी कि लोग पिछले दो घंटे से रेलवे पटरी पर खड़े हैं तो उसने ट्रेन को हरी झंडी क्यों दी. वह उनलोगों को बहुत अच्छे से देख सकता था.”

बाजवा ने यह भी कहा कि यह पता करना महत्वपूर्ण है कि ट्रेन क्यों नहीं रुकी. सिद्धू को मंत्रिपरिषद से हटाने की शिअद की मांग को खारिज करते हुए बाजवा ने कहा, ”बड़ी तादाद में लोग शिरोमणि अकाली दल प्रमुख सुखबीर सिंह बादल का इस्तीफा भी मांग रहे हैं.’