अमृतसर: दशहरे के मौके पर रावण दहन देखने के लिए 20 से अधिक वर्षों से लोग आसपास के गांवों से रेलवे पटरियों से महज 50 मीटर दूर जोड़ा फाटक पर खाली पड़े मैदान में एकत्रित होते रहे हैं. बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक दशहरा उत्सव की खुशियां शुक्रवार को तब मातम में बदल गई जब एक ट्रेन की चपेट में आने से कम से कम 61 लोगों की मौत हो गई, जो वहां रावण के पुतले का दहन देखने के लिए जुटे थे. Also Read - सामाजिक कार्यक्रमों में शामिल होने की तैयारी में भारतीय, बढ़ सकती है कोविड -19 के फैलने की आशंका

Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस की 'खेती बचाव' यात्रा, राहुल, अमरिंदर और नजवोत सिंह सिद्धू ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना

अमृतसर ट्रेन हादसा: क्या है पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर का कनेक्शन, क्यों लग रहे हैं आरोप Also Read - Dussehra 2020 Date & Time: इस दिन मनाया जाएगा विजयदशमी का त्योहार, जानें पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

आतिशबाजी के शोर में दब गई ट्रेन के हॉर्न की आवाज

प्रत्यक्षदर्शी 55 वर्षीय जसवंत ने कहा कि इस प्लॉट में रावण का पुतला जलाया जाता है जबकि रामलीला रेलवे पटरियों से थोड़ी दूरी पर आयोजित की जाती है. जसवंत ने दावा किया कि आतिशबाजी के शोर के कारण लोगों को जालंधर से आती ट्रेन के हॉर्न की आवाज सुनाई नहीं दी. उन्होंने दावा किया कि इस ट्रेन के जालंधर से अमृतसर जाने से पहले भी दो ट्रेनें पटरियों से गुजरी लेकिन उन्होंने अपनी गति धीमी कर ली थी. स्थानीय लोगों ने बताया कि यह हादसा शुक्रवार की देर शाम करीब सात बजकर 10 मिनट पर हुआ जब रावण दहन देख रहे लोग पटरियों पर खड़े थे.

इस हादसे बाद राहत-बचाव कार्य व जांच के चलते अमृतसर-मानवाला सेक्शन पर ट्रेनों का संचालन फिलहाल रोक दिया गया है. जिसकी सूचना नॉर्दर्न रेलवे के सीपीआरओ दीपक कुमार ने दी.

रावण का किरदार निभाने वाले दलबीर सिंह की भी इस ट्रेन हादसे में मौत हो गई. दलबीर की एक आठ माह की पुत्री है. दलबीर की मां ने सरकार से उसकी पत्नी को जीवन यापन के लिए सरकारी नौकरी की मांग की है.

एक अन्य स्थानीय निवासी बलविंदर ने कहा, ‘‘इस खाली प्लॉट पर 20 से अधिक वर्षों से रावण का पुतला जलाया जाता रहा है लेकिन इससे पहले ऐसी कोई घटना नहीं हुई.’’ गौरतलब है कि अमृतसर में जोड़ा फाटक के समीप शुक्रवार शाम को रावण दहन देखने के लिए रेल की पटरियों पर खड़े लोग एक ट्रेन की चपेट में आ गए जिसमें कम से कम 61 लोगों की मौत हो गई और 72 अन्य घायल हो गए.

अमृतसर: रावण दहन के दौरान ट्रेन हादसा, ड्राइवर हिरासत में, पूछताछ जारी, बताया क्या हुआ था