नई दिल्ली: अमूल ब्रांड के स्वामित्व वाले गुजरात सहकारी दुग्ध विपणन संघ (जीसीएमएमएफ) का ट्विटर खाता उसके द्वारा जाहिर तौर पर चीनी उत्पादों के बहिष्कार का आह्वान करने के बाद कुछ देर के लिये ब्लॉक कर दिया गया था. जीसीएमएमएफ के प्रबंध निदेशक आर एस सोढ़ी ने कहा कि उनकी विज्ञापन एजेंसी द्वारा शुभंकर ‘अमूल गर्ल’ के साथ बृहस्पतिवार को “एग्जिट द ड्रैगन?” कैप्शन के साथ एक कार्टून पोस्ट किया था जिसके बाद उसके ट्विटर खाते को कुछ देर के लिये ब्लॉक कर दिया गया. इस कार्टून की नीचे की तरफ दाएं कोने में लिखा था “अमूल मेड इन इंडिया”. Also Read - पूर्वी लद्दाख विवाद: भारत-चीन के आर्मी कमांडरों के बीच आज चुशुल में हाईलेविल मीटिंग

यह कार्टून प्रधानमंत्री नरेंद्र द्वारा शुरू की गई “आत्मनिर्भर भारत” की नयी नीति के साथ ही पूर्वी लद्दाख में दोनों देशों के बीच जारी गतिरोध के मद्देनजर भारतीय सोशल मीडिया पर चल रहे चीनी समानों के बहिष्कार के आह्वान का समर्थन करता नजर आ रहा है. शनिवार को जब अमूल के ट्विटर खाते पर जाने की कोशिश की गई तो यह उपलब्ध था और कार्टून से संबंधित वह पोस्ट भी वहां पर देखी जा सकती है. Also Read - भारत से दस गुना अधिक है चीन की ताकत, वह देश के लिए पाकिस्तान से बड़ा खतरा है: शरद पवार

सोढ़ी ने कहा, “हम नहीं जानते कि खाते को क्यों बंद किया गया क्योंकि हमें ट्विटर की तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं मिला है…अमूल ने किसी के खिलाफ कोई अभियान नहीं चलाया है.” सोढ़ी ने कहा, “अमूल गर्ल अभियान बीते 55 सालों से चल रहा है और इसमें आम तौर पर मुद्दों पर आधारित विषय उठाए जाते हैं, जो विनोदपूर्ण तरीके से राष्ट्र के मिजाज को परिलक्षित करते हैं.”

उन्होंने कहा, “हमारी विज्ञापन एजेंसी ने चार जून की रात को जब यह कार्टून साझा किया तो उन्हें फॉरवर्ड किये गए एक संदेश से पता चला कि हमारा ट्विटर खाता ब्लॉक है. जब हमने ट्विटर से इसे फिर से शुरू करने का अनुरोध किया तो यह खाता बहाल हो गया.” उन्होंने कहा, “जब हमें इसके बारे में पता चला, हमनें स्पष्टीकरण मांगा. हमें नहीं पता कि यह बाधा क्यों आई. हमें इस बारे में ट्विटर से अभी कोई आधिकारिक जवाब नहीं मिला है.” इसबीच हैशटैग अमूल ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा और बहुत से उपयोगकर्ता अमूल कंपनी के समर्थन में आते हुए माइक्रोब्लॉगिंग साइट पर भारत के प्रति पक्षपातपूर्ण रवैये का आरोप लगाने लगे.

ट्विटर की सफाई
अमूल का ट्विटर अकाउंट कुछ समय के लिये हटाए जाने के एक दिन बाद ट्विटर ने शनिवार को कहा कि इसका कारण सुरक्षा से जुड़ी प्रक्रियाएं हैं. ट्विटर के प्रवक्ता ने इस बारे में कहा, “खातों की सुरक्षा हमारे लिये एक महत्वपूर्ण प्राथमिकता है. यह सुनिश्चित करने के लिये कि किसी खाते की सुरक्षा से समझौता नहीं किया गया है, कभी-कभी खाता धारक के लिये एक सरल रीकैप्चा प्रक्रिया अपनाते हैं. यह प्रक्रिया मूल खाता धारक के लिये सरल है, लेकिन स्पैम के लिये या दुर्भावनापूर्ण खाता धारकों के लिये यह मुश्किल होता है.’’

(इनपुट भाषा)