आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ‘अम्मा वोडी’ की शुरुआत की है. माना जा रहा है कि यह देश की सबसे लोकप्रिय और आकर्षक योजना है. इससे पहले कोई भी राज्य व केंद्र सरकार ऐसी योजना नहीं चला रही है. इस योजना का उद्देश्य लाखों गरीब और जरूरतमंद माताओं को उनके बच्चों को शिक्षित करने के लिए सहायता प्रदान करना है. रेड्डी ने राज्य के 82 लाख बच्चों के लाभ के लिए लगभग 43 लाख माताओं के खातों में 15,000 रुपये की वार्षिक वित्तीय सहायता देने वाली इस योजना की शुरुआत की. उन्होंने लैपटाप का बटन दबाकर इस योजना की शुरुआत की. Also Read - Andhra Pradesh: उपमुख्यमंत्री पद पर रहते हुए पहली बार कोई महिला बनी मां, मंत्रियों ने दी शुभकामनाएं

तिरुपति से लगभग 70 किलोमीटर दूर चित्तूर में एक बड़े जनसमूह को संबोधित करते हुए रेड्डी ने कहा कि राज्य के 82 लाख बच्चों को शिक्षित करने के लिए लगभग 43 लाख माताओं को मदद देने वाली इस योजना के तहत राज्य सरकार ने आज 6,318 करोड़ रुपये जारी किए. उन्होंने कहा कि अम्मा वोडी योजना देश की शिक्षा प्रणाली में ऐतिहासिक बदलाव लाने वाली अपनी तरह की पहली योजना है. Also Read - कन्फर्म: इस राज्य में 10 मार्च को होंगे शहरी निकायों के चुनाव, 14 मार्च को होगी मतगणना

उन्होंने यह भी कहा कि उनकी सरकार शासकीय शिक्षण संस्थानों की आधारभूत सुविधाओं में आमूल चूल बदलाव करने के लिए संकल्पबद्ध है. 14000 करोड़ रुपये के बजटीय प्रावधान के साथ सरकार ने 45 हजार सरकारी स्कूलों, 471 मिडल कालेजों, 148 डिग्री कॉलेजों और छात्रावासों में चरणबद्ध ढंग से आधुनिकीकरण के काम को हाथ में लिया है. उन्होंने घोषणा की कि इस शैक्षणिक सत्र से सभी सरकारी स्कूलों में कक्षा पहली से लेकर छठवीं तक पठन-पाठन का माध्यम अंग्रेजी भाषा होगी और हर साल इसे बढ़ाते हुए चार सालों में 10वीं की परीक्षा अंग्रेजी माध्यम से कराने की व्यवस्था की जाएगी. Also Read - नई पार्टी बनाने की खबरों के बीच आंध्र प्रदेश के दिवंगत सीएम YSR की बेटी ने पिता के वफादारों के साथ विचार-विमर्श शुरू किया