नई दिल्ली. सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने आरोप लगाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल राजनीति में आने के बाद लोकपाल आंदोलन को भूल गए. उन्होंने कहा कि वह केजरीवाल से अपने भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन से दूर रहने के लिए कहेंगे. हजारे ने 2011 के लोकपाल आंदोलन को सफल अंजाम तक ले जाने में विफलता को लेकर पुड्डुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी और केंद्रीय मंत्री वी के सिंह पर भी निशाना साधा. Also Read - दिल्ली सरकार को हाईकोर्ट का झटका, निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए 80% ICU बेड रिजर्व रखने के आदेश पर रोक

उन्होंने कहा, हमारी टीम में ये सभी लोग थे. हमने लोकपाल के लिए इतना बड़ा आंदोलन किया. राजनीति में जाने के बाद ये लोग लोकपाल को भूल गए. कोई मुख्यमंत्री बन गया, कोई राज्यपाल बन गया और कोई केंद्र सरकार में मंत्री बन गया और फिर लोकपाल आंदोलन को भूल गए. Also Read - अरविंद केजरीवाल की गैर भाजपा दलों से अपील- राज्यसभा में कृषि विधेयकों के खिलाफ करें वोट

अन्ना हजारे ने कहा कि अगर केजरीवाल उनके आंदोलन में शामिल होना चाहेंगे तो उनसे कहेंगे कि वह दूर बने रहें. केजरीवाल ने फरवरी, 2014 में लोकपाल विधेयक दिल्ली विधानसभा में पारित नहीं होने पर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. बाद में लोकपाल विधेयक दिल्ली विधानसभा में पारित किया गया और इसे केंद्र सरकार की मंजूरी मिलनी बाकी है. Also Read - Political Recation: राहुल और केजरीवाल ने पीएम को कुछ यूं दी जन्मदिन की शुभकामनाएं...जानिए किस नेता ने क्या कहा?