मुंबई। सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने आज कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ आरोप अगर साबित हुए तो वह उनके इस्तीफे की मांग को लेकर धरने पर बैठेंगे. हजारे ने हालांकि यह भी कहा कि दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने केजरीवाल के खिलाफ घूस के आरोप उन्हें मंत्री पद से हटाये जाने के बाद लगाए हैं.

भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग छेड़ने वाले अन्ना ने कहा कि पूर्व मंत्री ने केजरीवाल के खिलाफ जो कुछ भी कहा वो सिर्फ मंत्री पद से हटाए जाने के बाद कहा. जब कथित तौर पर रूपयों का लेनदेन हुआ और वह मंत्री थे तो उन्होंने अधिकारियों को सचेत क्यों नहीं किया?

महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में अपने गांव रालेगण सिद्धि में अपने घर पर हजारे ने कहा कि मुझे लगता है कि इस मामले में पूरी जांच होनी चाहिए. अगर केजरीवाल दोषी पाये गए तो मैं खुद जंतर-मंतर पर धरने पर बैठूंगा और उनके इस्तीफे की मांग करूंगा. इससे पहले अन्ना ने कहा था कि उन्हें केजरीवाल पर लगे रुपये लेने के आरोपों से दुख पहुंचा है.

अन्ना ये भी कह चुके हैं कि उनका भरोसा पहले ही उठ चुका है. इन आरोपों पर केजरीवाल को खुद सामने आकर कहना चाहिए कि तुरंत जांच करें. लेकिन वह सफाई देने में जुटे हुए हैं. अन्ना ने अपना उदाहरण देते हुए कहा कि एक बार तो मैं खुद के खिलाफ जांच को लेकर ही धरने पर बैठ गया था.

बता दें कि आप में एमसीडी चुनाव के बाद से ही तूफान उठा हुआ है. पहले कुमार विश्वास-अमानतुल्लाह प्रकरण हुआ, फिर अचानक कपिल मिश्रा को मंत्रिपद से बर्खास्त कर दिया गया. इसके बाद से ही कपिल बागी तेवर अपनाए हुए हैं. कपिल ने केजरीवाल पर मंत्री सत्येंद्र जैन से दो करोड़ लेने का सनसनीखेज आरोप लगया है. आज कपिल बकायदा तीन लिफाफे लेकर सीबीआई दफ्तर भी पहुंचे.

(भाषा इनपुट)