तूतीकोरन। तमिलनाडु के तूतीकोरन में पिछले एक महीने से वेदांता की स्टरलाइट कॉपर यूनिट को बंद करने की मांग को लेकर हो रहा प्रदर्शन आज हिंसक हो गया. संयंत्र की तरफ बढ़ने से रोके जाने कारण प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया और पुलिस के वाहनों को पलट दिया. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में 9 लोगों की मौत हो गई है. पूरे शहर में तनाव का माहौल बना हुआ है. पुलिस ने बताया कि करीब 5000 प्रदर्शनकारी स्थानीय चर्च के निकट एकत्र हो गए और जब उन्हें संयंत्र तक मार्च करने की अनुमति नहीं दी गई तो उन्होंने जिला कलेक्ट्रेट तक रैली निकालने पर जोर दिया. इस बात पर प्रदर्शनकारियों और पुलिसकर्मियों के बीच पहले धक्का मुक्की हुई और बाद में इसने हिंसा का रूप ले लिया. स्थानीय लोगों ने पुलिस पर पथराव करना शुरू कर दिया और कुछ वाहनों को पलट दिया. सुरक्षाकर्मियों ने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े. प्रदर्शनकारियों की ओर से किए गए पथराव में कई लोग घायल हो गए. इस दौरान कुछ बैंक परिसरों पर भी हमला किया गया. तमिलनाडु सरकार ने मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 10-10 लाख रुपये और घायलों के लिए 3-3 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया है. इसी के साथ मारे गए लोगों के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी. घटना की जांच के लिए जांच कमेटी गठित कर दी गई है. Also Read - लॉकडाउन में परिवार को घर पहुंचाने के लिए शख्स ने मजबूरी में चुराई बाइक, काम होने के बाद पार्सल कर लौटाई

मद्रास उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार यूनिट को सुरक्षा प्रदान करने के लिए क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है. प्रदर्शनकारियों ने आज रैली निकालकर जिलाधिकारी से मिलने का ऐलान किया था. लेकिन  रैली निकालने की अनुमति नहीं मिलने पर प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षाकर्मियों को खदेड़ने की कोशिश की और नारेबाजी करने लगे. पुलिस ने बताया कि प्रदर्शनकारी पथराव करने लगे और पुलिस वाहन को भी पलट दिया. इसके बाद पुलिस ने उन्हें तितर बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया जिससे भगदड़ मच गई.

पथराव और झड़प की घटना में 9 लोगों की मौत हो गई है और कई लोग घायल हुए हैं. प्रदर्शनकारियों ने इस दौरान कुछ वाहनों को आग के हवाले कर दिया. इसके बाद से क्षेत्र में तनाव का माहौल है. प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि स्टरलाइट की वजह से क्षेत्र में भूजल प्रदूषित हो रहा है. इनकी मांग है कि इस इकाई को बंद किया जाए. 

चेन्नई में मत्स्य पालन मंत्री डी जयकुमार ने कहा कि भीड़ कलेक्टर के कार्यालय में घुसने की कोशिश कर रही थी और हिंसा स्वीकार्य नहीं है.पुलिस गोलीबारी जरूरी हो गई थी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी आज की घटना को लेकर चितित हैं और इस संबंध में अधिकारियों से विचार विमर्श कर रहे हैं. द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष स्टालिन ने पुलिस की कार्रवाई की निंदा की है.