नई दिल्ली : पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सोमवार को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार (PMRBP) के साल 2022 और 2021 के विजेताओं से मुलाकात की. यह मुलाकात ऑनलाइन ही हुई. इस दौरान उन्होंने विजेताओं को ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी (Blockchain Technology) के माध्यम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान ही उनके डिजिटल सर्टिफिकेट (Digital Certificates) भी सौंपे. इस दौरान प्रधानमंत्री ने एक विजेता से बात करते हुए पूछा, ‘व्याखान देते हैं, आपने बालमुखी रामायण भी लिखी है… इतना सारा काम… आप कैसे कर पाते हैं… बचपन बचा है या वो भी चला गया है.’Also Read - शादी करने जा रहे हैं 'बिग बॉस' कपल Aly Goni और Jasmin Bhasin! फैंस से बोले- हो गई बात पक्की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उक्त छात्र से पूछा कि आपको बालमुखी रामायण (Balmukhi Ramayan) लिखने का खयाल आपको सबसे पहले कब और कैसे आया? इस पर छात्र ने जवाब दिया कि इसका प्रेरणा स्रोत भी कहीं न कहीं आप ही रहे हैं. लॉकडाउन 2020 (Lockdown) में जब हम सब लोग, बच्चे हतोत्साहित हो गए थे. तब आपने टीवी पर रामायण प्रसारित करवाई और जब मैंने रामायण देखी तो मैं इससे बहुत ज्यादा इंस्पायर हुआ. जब मैंने रामायण देखी तो मुझे लगा कि भगवान राम का चरित्र आजकल हम बच्चे भूलते जा रहे हैं. इसलिए मैंने ये बालमुखी रामायण 250 छंदों में लिखी. ताकि भगवान राम ने जो आदर्श स्थापित किए हैं हम उन्हें सीख सकें. Also Read - गणेश आचार्य ने कहा 'गोविंदा और शाहरुख खान के जल्द करूंगा काम', अल्लु अर्जुन और 'ऊं अंतावा' पर कही ये बात- Video

Also Read - गेंद ही नहीं, बल्ले से भी चमके Ravichandran Ashwin, ऑलराउंडर प्रदर्शन ने बनाया 'प्लेयर ऑफ द मैच'

प्रधानमंत्री ने कहा, आज हमें यह देखकर गर्व होता है कि दुनिया की सभी बड़ी कंपनियों के सीईओ युवा भारतीय हैं. हम देख रहे हैं कि स्टार्टअप में भी हमारे युवा बहुत अच्छा कर रहे हैं. हमें गर्व होता है, जब हम अपने युवाओं को नए-नए प्रयोग करते हुए और देश को आगे बढ़ाते हुए देखते हैं तो.

इस साल, बाल शक्ति पुरस्कार की विभिन्न श्रेणियों के तहत देशभर से 29 बच्चों का PMRBP के लिए चुनाव किया गया है. ज्ञात हो कि PMRBP पुरस्कार विजेता हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस की परेड में भाग लेते हैं. प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेता को मेडल, 1 लाख रुपये का ईनाम और एक प्रमाणपत्र दिया जाता है. पीएमओ से जारी प्रेस रिलीज के अनुसार 1 लाख रुपये का यह नकद पुरस्कार PMRBP-2022 विजेता के अकाउंट में डिजिटल माध्यम से ट्रांस्फर किया जाएगा.

पुरस्कार विजेता, उनके माता-पिता और जिले के जिलाध्यक्ष ने जिला मुख्यालय से प्रधानमंत्री के साथ मुलाकात के इस कार्यक्रम में भाग लिया.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार (Pradhan Mantri Rashtriya Bal Puraskar) भारत में रहने वाले 5-18 वर्ष तक के बच्चों को दिए जाते हैं. आयु की गणना जिस वर्ष पुरस्कार दिए जा रहे हैं उसी वर्ष 31 अगस्त तक की जाती है. यह पुरस्कार नवाचार, शैक्षिक उपलब्धियों, खेल, कला और संस्कृति, समाज सेवा और बहादुरी, इन 6 क्षेत्रों में उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए दिए जाते हैं.

(इनपुट – एजेंसियां)