जम्मू. पाकिस्तान की ओर से किए गए हवाई क्षेत्र के उल्लंघन के बाद सेना और बीएसफ को सीमा पर उच्चतम स्तर पर अलर्ट पर रखा गया है. पाकिस्तानी सैनिकों ने मंगलवार को रातभर नियंत्रण रेखा की अग्रिम चौकियों और नागरिकों इलाकों में गोलीबारी की. यह गोलीबारी बुधवार को रुकी. Also Read - COVID-19 के चलते NSG कमांडो गणतंत्र दिवस पर नहीं करेंगे शोल्‍डर टू शोल्‍डर मार्च पास्‍ट

दोनों पड़ोसी देशों के बीच तनाव को देखते हुए अधिकारियों ने नियंत्रण रेखा के पांच किलोमीटर के दायरे में आने वाले शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने का आदेश दिया. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने मंगलवार को पाकिस्तान में जैश-ए-मोहम्मद के शिविर पर हमला किया था. सीमा क्षेत्र में रहने वाले सभी नागरिकों को घरों के भीतर ही रहने और बाहर नहीं निकलने की सलाह दी गई है. Also Read - Jammu Kashmir: पाकिस्तान की फिर एक बड़ी आतंकी साजिश नाकाम, भारतीय सेना को मिली सुरंग

सीमा पार से हुई गोलाबारी
अधिकारियों ने कहा, नियंत्रण रेखा से लगे जम्मू, राजौरी और पुंछ के इलाकों में सीमा पार से भारी गोलीबारी और गोलाबारी हुई. हालांकि बुधवार को सीमा पार से कोई गोलीबारी और गोलाबारी नहीं हुई. खबरों के अनुसार सीमा क्षेत्र में रहनेवाले लोगों में डर का माहौल है और उनमें से कुछ सुरक्षित स्थानों पर चले गए हैं. भारतीय अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तान लड़ाकू विमानों ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर क्षेत्र के पुंछ और नौशेरा में भारतीय हवाईक्षेत्र का उल्लंघन किया. Also Read - अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास BSF का फिट इंडिया मूवमेंट, साइकिल रैली का आयोजन किया

5 चौकियां की नष्ट
एक रक्षा अधिकारी ने बताया कि भारतीय सेना ने पाकिस्तान की पांच चौकियों को नष्ट कर दिया और सीमा पार से हो रही गोलीबारी और गोलाबारी का करारा जवाब दिया। इस दौरान कई पाकिस्तानी सैनिक मारे गए. गुरुवार को शाम छह बजकर 30 मिनट से पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना उकसावे के संघर्ष विराम का उल्ंलघन शुरू किया. हालांकि, भारतीय सैनिकों ने इसका करार जवाब दिया. इस गोलीबारी में भारतीय सेना के पांच जवान जख्मी हए हैं जिनमें से दो को इलाज के लिए सैन्य अस्पताल में भेजा गया है.