नई दिल्ली: कश्मीर घाटी में कुछ युवकों द्वारा किए गए पथराव की वजह से सिर में चोट लगने से घायल हुए सेना के एक जवान की शुक्रवार को इलाज के दौरान मौत हो गई. इस घटना के एक दिन बाद सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. उन्होंने कहा कि ऐसी हरकत करने वाले आतंकवादियों की तरह व्यवहार कर रहे हैं. दिल्ली में इंडिया गेट पर 72 वें इन्फेंट्री डे के मौके पर शनिवार को सेना प्रमुख बिपिन रावत ने अमर जवान ज्योति स्थल पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी.

श्रीनगर में आतंकवादियों ने सीआईएसएफ जवान पर किया ग्रेनेड से हमला, शहीद

उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, पत्थरबाज हमारे जवानों को टारगेट कर रहे हैं. उन्होंने कल एक जवान को टारगेट कर पत्थरबाजी की जिससे उसकी मौत हो गई. कृपया आप हमें बताएं हम इन पत्थरबाजों की तुलना आतंकियों की मदद करने वाले Over Ground Workers (OWG) से क्यों न करें और वैसी ही कार्रवाई क्यों न करें. हर बार सेना के खिलाफ केस दर्ज होता है, लेकिन इस टाइम हम उनके खिलाफ केस दर्ज कराएंगे. इस बार आर्मी सख्त कार्रवाई करेगी. बता दें कि आतंकियों की मदद करने वाले Over Ground Workers (OWG) पूरी तरह से आतंकी नहीं होते हैं बल्कि ये एक तरह से सूचना देने का काम करते हैं. ये आम लोगों के बीच में उनकी तरह ही घूमते हैं और फिर आतंकियों को पूरी जानकारी देते हैं.

रक्षा मंत्रालय की प्रवक्ता के ट्वीट से सेना नाराज, छुट्टी पर भेजी गईं

गौरतलब है कि पथराव की वजह से सिर में चोट लगने से सेना के जवान की मौत हो गई. सेना के एक अधिकारी ने बताया कि सिपाही राजेंद्र सिंह गुरुवार को सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के काफिले को सुरक्षा प्रदान करने वाले क्यूआरटी दल में शामिल थे. शाम करीब छह बजे जब काफिला एनएच-44 के पास अनंतनाग बाईपास तिराहे से गुजर रहा था तो कुछ युवकों ने वाहन पर पथराव किया और सिर पर एक पत्थर लगने से सिंह घायल हो गए.अधिकारी ने बताया कि सिंह को तत्काल प्राथमिक चिकित्सा प्रदान की गई और 92 बेस अस्पताल पहुंचाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया.

‘पीएम मोदी ने मतदाताओं का भरोसा तोड़ा, हिंसा, लिंचिंग और गऊ-रक्षा से जुड़ी घटनाओं पर चुप रहे’

उत्तराखंड के बडेना गांव निवासी सिंह 2016 में सेना में भर्ती हुए थे और उनके परिवार में उनके माता-पिता हैं. सेना ने शुक्रवार को उन्हें और दो अन्य जवानों- लांस नायक ब्रजेश कुमार, सिपाही एनगमसियामलियाना को श्रद्धांजलि दी. दोनों जवान कश्मीर घाटी में अलग अलग आतंकवाद-निरोधक अभियानों में मारे गए थे. दिल्ली में शनिवार को सेना प्रमुख ने पाकिस्तान पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को पता है कि वह कभी जीत नहीं सकता इसलिए वह आतंकवाद का सहारा लेता है. वे कश्मीर में विकास को रोकना चाहते हैं लेकिन भारत हर तरह के हालात का सामना करने में सक्षम है.