नई दिल्ली: सेनाप्रमुख जनरल बिपिन रावत को चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी (सीसीएस) का चेयरमैन नियुक्त किया गया है. आर्मी चीफ रावत सीसीएस चैयरमैन के पद की जिम्‍मेदारी 27 सितंबर शुक्रवार को संभालेंगे. बता दें कि हाल ही में पीएम नरेंद्र मोदी चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टॉफ पद का सृजन किया था. Also Read - पाकिस्‍तान, चीन मिलकर एक शक्तिशाली खतरा..., सही वक्‍त, जगह चुनने और माकूल जवाब का अधिकार हमारा है: आर्मी चीफ

जनरल रावत सीसीएस का प्रभार एयरचीफ मार्शल बीएस धनौआ से संभालेंगे. बता दें कि थल सेना, वायु सेना और जल सेना के प्रमुखों में सीन‍ियर को चेयरमैन ऑफ स्‍टाफ कमेटी के पद के लिए चुना जाता है. Also Read - Indian Air Force Recruitment 2021: भारतीय वायु सेना में अधिकारी के पदों पर आवेदन करने की आज है अंतिम तिथि, जल्द करें अप्लाई

सेना प्रमुख 31 दिसंबर को सेवानिवृत्त होंगे. उन्होंने 31 दिसंबर, 2016 को सेना प्रमुख का पद संभाला था. एयर चीफ मार्शल धनोआ ने 29 मई को नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा से सीओएससी के अध्यक्ष का प्रभार हासिल किया था. Also Read - Indian Air Force Recruitment 2021: भारतीय वायु सेना में ऑफिसर बनने का सुनहरा मौका, AFCAT 2021 के लिए आवेदन करने की कल है अंतिम डेट, जल्द करें अप्लाई 

स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने घोषणा की थी कि भारत में शीघ्र ही एक चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ होंगे. पीएम ने कहा था कि सेनाओं को अधिक प्रभावी बनाने के लिए यह किया जा रहा है.

जनरल रावत सेंट एडवर्ड स्‍कूल शिमला और राष्‍ट्रीय रक्षा अकादमी खड़कवासला के छात्र रहे हैं. उन्‍हें देहरादून स्थित इंडियन मिलिट्री अकादमी से 1978 में भारतीय सेना की 11वीं गोरखा राइफल्‍स में कमीशन मिला था.

वह ऐसे अफसर हैं, जिन्‍हें संघर्ष का व्‍यापक अनुभव है. उन्‍होंने इंफैट्री बटालियन का नेतृत्‍व पूर्वी सेक्‍टर में एलएसी पर किया है. इसके अलावा उन्‍होंने कश्‍मीर घाटी में भी इंफैट्री डिविजन का नेतृत्‍व किया है. वह कांगो में भी यूएन के शांति मिशन में काम कर चुके हैं.