नई दिल्ली: आज देश में 73वां सेना दिवस मनाया जा रहा है. इस खास मौके पर भारतीय सेना के प्रमुख एमएम नरवणे ने ड्यूटी कर रहे भारतीय सेना के जवानों और उनके सर्वोच्च बलिदान की सराहना की. उन्होंने साल 2020 को चुनौतियों और अवसरों से भरपूर बताते हुए कहा कि भारतीय सेना इस दौरान देश की अखंडत और सुरक्षा को सुनिश्चित करने को लेकर तैनात रही. उन्होंने कहा कि LAC पर जारी गतिरोध का हमारे बहादुर जवानों और अफसरों ने मुहतोड़ जवाब दिया है.Also Read - Army Combat Uniform: शानदार होगी भारतीय सेना की नई कॉम्बैट यूनिफॉर्म, जानें खासियत, देखें तस्वीर

सेना प्रमुख ने LAC पर किए गए त्वरित कार्रवाई की तारीफ की और कहा कि बातचीत और कूटनीति के जरिए विवाद को सुलझाने के साथ साथ भारतीय सेना ने सीमा पर यथास्थिति को बदलने के हर प्रयास का मुंहतोड़ जवाब दिया है. Also Read - दुनिया का सबसे बड़ा राष्ट्रीय ध्वज 'तिरंगा' पाक बॉर्डर के पास प्रदर्शित किया गया

Also Read - Indian Army Day 2022: भारतीय सेना 15 जनवरी को ही क्यों मनाती है थल सेना दिवस, जानें पुराने किस्से

वहीं चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत ने भी सेना दिवस पर सेना के जवाबनों को संदेश देते हुए शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी. बता दें कि 15 जनवरी 1949 को फील्ड मार्शल के एम करियप्पा स्वतंत्र भारत के पहली भारतीय सेना प्रमुख बने थे. इनके भारतीय सेना के प्रमुख बनाए जाने के बाद से ही हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाता है.