श्रीनगर: इंडियन आर्मी ने जम्मू-कश्मीर के युवाओं का भविष्य संवारने के लिए अनोखी पहल शुरू की है. सेना ने राज्य के छात्रों के लिए ‘कश्मीर सुपर 30’ की स्थापना की है. इसकी मदद से घाटी के छात्र मेडिकल में अपना भविष्य बना सकेंगे. लेफ्टिनेंट जनरल एके भट्ट ने इसकी शुरुआत की. इस मौके पर लेफ्टिनेंट जनरल भट्ट ने कहा, मेरा भरोसा है कि बच्चे देश की सेवा करेंगे, क्योंकि एक साल से हमारा युवाओं को इंगेज करने और उन्हें मुख्यधारा में लाने का लक्ष्य रहा है. आर्मी का ये सेंटर राज्य के छात्रों को मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट की फ्री आवासीय कोचिंग देगा.

15 कॉर्प्स के श्रीनगर मुख्यालय के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल ए.के.भट्ट ने बताया, रमजान संघर्ष विराम से आम कश्मीरियों के जीवन में शांति के कुछ पल आए हैं, जिन्होंने इस पहल की सराहना की है.” उन्होंने कहा, हमें खुशी है कि रमजान के पवित्र महीने के दौरान कोई नागरिक हताहत नहीं हुआ है, लेकिन पाकिस्तान के राज्य में घुसपैठ में मदद के प्रयास जारी हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल भट्ट ने कहा कि नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर सेना घुसपैठ की चुनौती के लिए तैनात है. उन्होंने ये भी कहा कि
ऐसा कोई संकेत नहीं है कि आने वाले महीनों में घुसपैठ के प्रयासों में वृद्धि होगी. लेफ्टिनेंट जनरल भट्ट ने कहा कि रमजान संघर्षविराम को बढ़ाने या बंद करने का निर्णय सरकार का है. उन्होंने कहा, दोनों स्थितियों में सेना सरकार के निर्णय को लागू करेगी. (इनपुट- एजेंसी)