नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने राजधानी में शनिवार को दिनदहाड़े हुई एक मेजर की पत्नी की हत्या से राज उठाते हुए आरोपी मेजर निखिल हांडा को गिरफ्तार कर लिया है. आर्मी मेजर अमित द्विवेदी की 35 साल की पत्नी शैलजा द्विवेदी का शव दिल्ली कैंट इलाके के बरार स्कवायर के पास मिला था. पुलिस ने रविवार को आरोपी निखिल हांडा को यूपी के मेरठ से गिरफ्तार कर दिल्ली ले आई. शैलजा और उसके मेजर पति से आरोपी मेजर हांडा के करीबी संबंध थे. Also Read - दिल्ली पुलिस की किरकिरी, डीसीपी का पीए छेड़छाड़ के आरोप में गिरफ्तार

बता दें कि शैलजा और हांडा की मुलाकात नागालैंड में दीमापुर में हुई थी, जहां शैलजा के पति की तैनाती थी. विक्टिम के पति हाल ही में प्रशिक्षण के लिए दिल्ली आए थे और वह छावनी इलाके के पास नारायणा में सेना क्वार्टर में रह रहे थे. पुलिस के मुताबिक आरोपी आर्मी मेजर अचानक ही दिल्ली आया था. हत्या वाले दिन को भी आरोपी मेजर हांडा दिल्ली कैंट के बेस अस्पताल में शैलजा के साथ देखा गया था. हत्या के पीछे लव अफेयर की भी बातें मीडिया में चल रही हैं. Also Read - दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल थान सिंह हैं रियल लाइफ 'सिंघम', लगाते हैं गरीब बच्चों की पाठशाला

Also Read - Rahul Rajput Adarsh Nagar Murder Case: लड़की के सामने की गई थी राहुल की हत्या, पुलिस ने कहा- दोस्त ने ही आरोपियों की पहचान की

विक्टिम को 15 साल से जानता था आरोपी
दिल्ली पुलिस के डीसीपी वी सिंह ने कहा, ” आरोपी को दिल्ली लाया गया है. वह विक्टिम को 15 साल से जानता था. उसने बहस होने के दौरान चाकू से हमला किया, उसे कार से नीचे फेंक उसी से कुचल दिया. दिल्ली पुलिस के अफसर का ये बयान दूसरे मेजर की पत्नी की हत्या करने के आरोपी निखिल हांडा की गिरफ्तारी के बाद दिया है.

यहां से शक के दायरे में
पुलिस ने कहा कि हांडा द्विवेदी दंपति का दोस्त था. हांडा शक के घेरे में इसलिए आया, क्योंकि वह दिल्ली छावनी में बेस अस्पताल के बाहर पीड़ित शैलजा के साथ देखा जाने वाला आखिरी व्यक्ति था. शैलजा फिजियोथेरेपी के लिए शनिवार सुबह अस्पताल गई थीं. अमृतसर की रहने वाली शैलजा बीते चार दिनों से अपने टखने के इलाज के लिए अस्पताल जा रही थीं.

सीसीटीवी से खुला राज
पुलिस ने कहा कि अस्पताल के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे के वीडियो फूटेज में शैलजा व हांडा एक होंडा सिटी कार में बैठे दिख रहे हैं. एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “हांडा के लापता होने और उसके फोन के बंद होने के बाद उसे मेरठ में इस होंडा सिटी कार में गिरफ्तार किया गया.” पुलिस के मुताबिक पीड़ित के मोबाइल फोन और उसके कॉल रिकॉर्ड से महत्वपूर्ण सुराग बरामद हुए हैं.

हत्या के बाद वाहन चढ़ाया
बरार चौराहे के पास मृत पाई शैलजा के शव पर इस तरह के निशान हैं, जिससे लगता है कि उसके ऊपर वाहन चढ़ाया गया था. पुलिस को संदेह है कि उसकी पहले हत्या की गई और सड़क पर उसके शव को फेंके जाने के बाद हत्यारे या किसी अन्य का वाहन उसके ऊपर चढ़ाया गया.

ऐसे हुई थी शव की शिनाख्त
शैलजा शनिवार सुबह 10 बजे अपने घर से सेना के एक वाहन में फिजियोथेरिपी के लिए गई थीं. बाद में जब ड्राइवर उन्हें लेने गया तो उसे सूचना दी गई कि शैलजा फिजियोथेरिपी के लिए आई ही नहीं थीं. वह वापस परेड ग्राउंड इलाके के उनके आवास पर गया और उनके पति को सूचना दी, जिन्होंने शैलजा की तलाश शुरू की. शैलजा के शव को एक राहगीर ने देखा, जिसने पुलिस को सूचना दी. शैलजा के शव की कुछ घंटों तक पहचान नहीं हो सकी थी। उनके पति बाद में उनके लापता होने की शिकायत दर्ज कराने नारायणा पुलिस थाने गए, जहां उन्होंने शैलजा के शव की शिनाख्त की.