नई दिल्लीः जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने और राज्य को दो हिस्सों में बांटने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सरकार के प्रस्ताव पर लोकसभा में चर्चा के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर (PoK) भारत का अभिन्न हिस्सा है और जरूरत पड़ी तो वह उसके लिए जान दे देंगे. लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक पेश करते हुए गृह मंत्री ने ये बात कही. उन्होंने कहा कि अक्साई चीन भी भारत का अभिन्न हिस्सा है. गृह मंत्री ने कहा कि जब वह जम्मू-कश्मीर बोलते हैं तो उसमें पीओके भी आता है. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए भारत की संसद कानून बना सकती है.

गौरतलब है कि सोमवार को सरकार ने राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने का संकल्प पत्र पेश किया था. इसके साथ ही सरकार ने राज्य को दो हिस्सों में बांटने संबंधी जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल भी पेश किया था. राज्यसभा ने सोमवार को ही इस विधेयक को मंजूरी दे दी थी. लोकसभा में विपक्ष के तीखे विरोध के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर पर उन्हें कानून बनाने से कोई नहीं रोक सकता. अमित शाह ने कहा कि वह चर्चा के दौरान विपक्ष के हर सवाल का जवाब देंगे. गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में धारा 370 में दो बार संशोधन किया गया. गृह मंत्री ने कहा कि राज्य को बांटने का फैसला वहां की जनता की मांग को देखते हुए किया गया है. लद्दाख के लोग लंबे समय से इसकी मांग कर रहे थे. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में निर्वाचित विधानसभा होगी और वहां मुख्यमंत्री भी होगा.