Arun Jaitley Health Condition: पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत बेहद गंभीर बनी हुई है. वह एम्स में भर्ती हैं. उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. उनके अहम अंग लाइफ सपोर्ट सिस्टम के जरिए ही काम कर रहे हैं. शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एम्स पहुंचकर जेटली के स्वास्थ्य की जानकारी ली. ऐसी रिपोर्ट है कि आज सुबह 10 बजे के लगभग सभी केंद्रीय मंत्री उनके स्वास्थ्य का हालचाल जानने एम्स जाएंगे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन ने कहा कि एम्स के डॉक्टर हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं. Also Read - कोरोना के बीच CBSE कराएगा एग्जाम, प्रियंका गांधी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से कहा- ये चौंकाने वाला फैसला, परीक्षाएं रद्द हों

राष्ट्रपति शुक्रवार दोपहर में अस्पताल आए जबकि शाह और आदित्यनाथ रात 11 बजकर 15 मिनट पर जेटली को देखने अस्पताल पहुंचे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन और स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे भी इस दौरान वहां मौजूद थे. सूत्रों के अनुसार जेटली (66) की स्थिति नाजुक है और विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम उनके उपचार पर नजर रख रही है. वह आईसीयू में हैं. Also Read - UP Zila Panchayat Chunav 2021: बीजेपी ने कुलदीप सिंह सेंगर की पत्‍नी संगीता सेंगर का टिकट किया कैंसिल

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने 10 अगस्त के बाद से उनके स्वास्थ्य की स्थिति को लेकर कोई बुलेटिन जारी नहीं किया है. सांस लेने में तकलीफ और बेचैनी की शिकायत के बाद नौ अगस्त को उन्हें एम्स में भर्ती किया गया था. इस साल मई में जेटली को इलाज के लिये एम्स में भर्ती कराया गया था.

जेटली पेशे से एक वकील हैं और वह भाजपा सरकार के पहले कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल का अहम हिस्सा रहे थे. उन्होंने वित्त एवं रक्षा दोनों मंत्रालयों का कार्यभार संभाला था और उन्होंने प्राय: सरकार के प्रमुख संकटमोचक के तौर काम किया. अपने खराब स्वास्थ्य के कारण ही जेटली ने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा. पिछले साल 14 मई को एम्स में उनके गुर्दे का प्रतिरोपण हुआ था और उस वक्त उनकी जगह रेल मंत्री पीयूष गोयल ने वित्त मंत्रालय का कार्यभार संभाला था.

(इनपुट-भाषा)