नई दिल्ली: भारत से भागे शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण की अनुमति देने के ब्रिटेन की अदालत के सोमवार के आदेश को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने देश के लिए एक बड़ी उपलब्धि बताया. उन्होंने कि कानून तोड़ने वाला यह व्यक्ति संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार में फायदा कमाया और अब उसे राष्ट्रीय जनतांत्रिक सरकार (एनडीए) कटघरे खड़ा करा रही है. Also Read - Covid-19: UN ने कहा- विश्व अर्थव्यवस्था मंदी में चली जाएगी, भारत, चीन हो सकते हैं अपवाद

वित्‍तमंत्री अरुण जेटली ने ब्रिटेन की अदालत के आदेश पर भारत को विजय माल्या के प्रत्यर्पण के आदेश पर कहा, “इस फैसले को कांग्रेस पार्टी और उसके अध्‍यक्ष को गंभीर रूप से आत्मनिरीक्षण करने के लिए बड़ी जरूरत. उन्हें इस विषय पर हर झूठ के लिए आत्मनिरीक्षण करना चाहिए”

वित्‍तमंत्री जेटली ने जारी ट्वीट में कहा, ”भारत के लिए बड़ी सफलता का दिन. भारत के साथ धोखाधड़ी करने वाला कोई भी खुला नहीं घूम सकता. ब्रिटेन की अदालत का फैसला स्वागतयोग्य है. एक दोषी जिसे यूपीए सरकार के दौरान फायदा हुआ, उसे एनडीए सरकार ने कटघरे में पहुंचाया है.”

अरुण जेटली ने कहा कि अभियान चलाया गया कि आप (बीजेपी) उन्हें वापस पाने में सक्षम नहीं हैं. आप (कांग्रेस) अपराधियों (विजय माल्या) को ऋण देने के लिए दोषी हैं. आपने एक ऐसी स्थिति बनाई है, जिसमें ऐसे लोग इस तरह समृद्ध हो सके और अब हम उसे वापस पाने में सफल रहे हैं. यह भारत के लिए एक गर्व का क्षण है.

ब्रिटेन की एक अदालत ने विजय माल्या का भारत को प्रत्यर्पण करने का आदेश दिया है. बैंकों का 9,000 करोड़ रुपए का कर्ज नहीं चुकाने के मामले में भारत को माल्या की जरूरत है. ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत की प्रमुख मजिस्ट्रेट एम्मा अरबुथनोट ने कहा कि इस बात के कोई संकेत नहीं है कि उनके खिलाफ झूठे मामले लाये जा रहे हैं.’

माल्या मार्च 2016 में ब्रिटेन भाग गए थे. भारत में बैंकों का 9,000 करोड़ रुपए का कर्ज नहीं चुकाने के मामले में उनकी जरूरत है. माल्या ने यह कर्ज अपनी किंगफिशन एयरलाइंस के लिये कई बैंकों से लिया था.