नई दिल्ली। लेखिका अरुंधति रॉय ने फिल्म अभिनेता परेश रावल द्वारा किए विवादित ट्वीट पर किसी भी तरह की टिप्पणी करने से मना कर दिया है. एक न्यूज चैनल से उन्होंने कहा कि मैं इसे तूल नहीं देना चाहती. इस वक्त मैं कई जरूरी कामों में व्यस्त हूं. इससे पहले फिल्म अभिनेता परेश रावल ने कश्मीर हिंसा और पत्थरबाजों को लेकर एक ट्वीट कर कहा था कि पत्थरबाज़ को आर्मी की जीप से बांधने के बजाय अरुंधति राय को बांधना चाहिए.

परेश रावल के ट्वीट करते ही यह तेजी से रीट्वीट होने लगा और मीडिया की सुर्खियों में छा गया. हजारों लोगों ने लाइक कर परेश रावल की बात पर सहमति जताई जबकि इसकी आलोचना करते हुए भी काफी टिप्पणियां की गई है.

अभिनेता रावल के ट्वीट करने के कुछ घंटों बाद खबर आई कि कश्मीरी युवक को जीप से बांधने वाले सेना के मेजर लितुल गोगोई को सेनाध्यक्ष द्वारा आतंकवाद से लड़ने के लिये सम्मानित किया जाएगा. इसके बाद सोशल मीडिया पर इस मामले में प्रतिक्रियाएं और तेज़ हो गईं.

इस बीच खबर यह भी है कि परेश रावल के ट्वीट से पहले पाकिस्तानी मीडिया में यह खबर आई थी कि कश्मीरी युवक को जीप से बांधने की घटना के बाद अरुंधति राय कश्मीर गई थीं और पाकिस्तान के समर्थक में बयानबाजी की थी. हालांकी अरुंधति इस बात को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि वह इस दौरान कभी कश्मीर गई ही नहीं.