नई दिल्ली: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि दिल्ली पुलिस कानून-व्यवस्था बनाए रखने में सक्षम है लेकिन इसे “मूकदर्शक बने रहने और कार्रवाई न करने के” ऊपर से आदेश मिलते हैं. केजरीवाल का इशारा जेएनयू और जामिया मिल्लिया विश्वविद्यालय में हाल में हुई हिंसा में पुलिस की भूमिका की तरफ था. आम आदमी पार्टी के सातवें टाउनहॉल बैठक को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने पूछा कि अब किस भरोसे से छात्र विश्वविद्यालय जाएंगे. साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार पर दिल्ली पुलिस को कोई कार्रवाई नहीं करने का आदेश देने का भी आरोप लगाया. Also Read - 'दिल्ली में स्थिति बहुत गंभीर': केजरीवाल ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, 'बिस्तर, ऑक्सीजन उपलब्ध कराने में मदद करें'

दिल्ली के मतदाता QR code के जरिए डाल सकेंगे वोट, 11 विधानसभा क्षेत्रों में होगी यह सुविधा Also Read - दिल्ली में बदतर हो रहे हालात... केजरीवाल बोले- पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 30% हुई, राजधानी में 100 से कम ICU बेड खाली

और इसी बीच आप प्रवक्ता एवं ऑक्सफोर्ड से पढ़ी आतिशी के नेतृत्व में तीन सदस्यीय एक समिति दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का घोषणापत्र तैयार करेगी. इसे 15 से 20 जनवरी के बीच जारी किए जाने की संभावना है. पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने बताया कि आतिशी के अलावा, आम आदमी पार्टी (आप) के प्रवक्ता एवं पूर्व आईपीएस अधिकारी अजय कुमार तथा ‘दिल्ली डॉयलॉग कमीशन’ के उपाध्यक्ष एवं कोलंबिया विश्वविद्यालय के छात्र रह चुके जसमीन शाह भी समिति का हिस्सा होंगे. Also Read - दिल्ली में कोविड स्थिति को लेकर CM केजरीवाल की बैठक, बोले- 'ऑक्सीजन और रेमेडिसवीर की कमी, बहुत तेजी से घट रहे ICU बेड'