नई दिल्लीः राजस्थान में पांच साल बाद सत्ता में वापसी करने वाली कांग्रेस पार्टी ने मुख्यमंत्री की घोषणा कर दी है. दो बार के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत राज्य की कमान संभालेंगे वहीं युवा नेता प्रदेशाध्यक्ष उपमुख्यमंत्री की भूमिका में होंगे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ कई दौर की हुई बैठक के बाद राजस्थान में नेतृत्व का मसला सुलझा लिया गया. एक दिन पहले गुरुवार देर रात ही मध्य प्रदेश की कमान कमलनाथ को सौंपने की घोषणा हुई थी. दिल्ली में एक प्रेस कांफ्रेंस में वेणुगोपाल ने इसकी घोषणा की. इस प्रेस कांफ्रेंस में अशोक गहलोद और सचिन पायटल दोनों मौजूद थे.

राहुल गांधी को ‘जादू दिखाने’ वाला शख्स, आज कैसे बन गया कांग्रेस का ‘चाणक्य’

सूत्रों का कहना है कि अशोक गहलोत मुख्यमंत्री के लिए कांग्रेस नेतृत्व की पसंद थे. प्रेस कांफ्रेंस से पहले कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रसन्नचित नजर आ रहे दोनों नेताओं की अपने साथ तस्वीर ट्विटर पर साझा करते हुए लिखा, ‘द यूनाइटेड कलर्स ऑफ राजस्थान’. इस तस्वीर से स्पष्ट हो गया था कि राज्य में मुख्यमंत्री पद के मसले को सुलझा लिया गया है. सूत्रों ने कहा था कि मुख्यमंत्री पद के लिए पार्टी की पसंद के तौर पर गहलोत के नाम का ऐलान किसी भी समय किया जा सकता है.

राहुल गांधी ने गुरुवार से दोनों नेताओं से अलग-अलग तीन बार मुलाकात की थी. पार्टी के प्रमुख नेताओं के बीच राजस्थान और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्रियों के नाम तय करने को लेकर लंबी चर्चा हुई जिसमें सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा भी शामिल हुईं. शुक्रवार को हुई बैठक के दौरान वरिष्ठ पार्टी नेता के सी वेणुगोपाल, अविनाश पांडे और जितेंद्र सिंह भी मौजूद थे.