जयपुर/नई दिल्ली. राजस्थान के सोमवार को होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार में 23 मंत्रियों को शपथ दिलाई जाएगी। मंत्रिपरिषद में 22 कांग्रेसी विधायक और राष्ट्रीय लोकदल के एक विधायक को जगह दी जा रही है. मंत्रिमंडल में 13 कैबिनेट और 10 राज्य मंत्रियों के शपथ लेने की संभावना है.

सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट 17 दिसम्बर को शपथ लेने के बाद तीन दिन तक नई दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ मंत्रिमंडल के गठन को लेकर बैठक करने के बाद रविवार जयपुर लौटे है. उन्होंने बताया कि मंत्रिमंडल का शपथ ग्रहण समारोह सोमवार को 11.30 बजे जयपुर में आयोजित होगा. सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल के गठन के लिये आयोजित बैठकों में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव और राजस्थान के प्रभारी अविनाश पांडे, कांग्रेस के पर्यवेक्षक के सी वेणुगोपाल और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारी भी शामिल थे.

नए चेहरे शामिल करना चाहते हैं राहुल
सूत्रों के अनुसार पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने राज्य के मंत्रिमंडल गठन में ज्यादातर नये चेहरों को शामिल करने पर ध्यान केन्द्रित किया. मंत्रिमंडल में पुराने और ऐसे नये लोगो को शामिल किया गया है जिनके पास पूर्व में मंत्री पद का कोई अनुभव नहीं है. उन्होंने बताया कि 12 ऐसे चेहरे कल के मंत्रिमंडल विस्तार में देखे जा सकेंगे. पार्टी के एक नेता ने बताया कि सोमवार को राजभवन में आयोजित शपथ ग्रहण में 22 कांग्रेस के विधायक और एक गठबंधन सहयोगी राष्ट्रीय लोकदल के विधायक को मंत्री पद की शपथ दिलाई जायेगी.

ये बन सकते हैं मंत्री
सोमवार को मंत्रिमंडल में शपथ लेने वाले विधायकों में बी डी कल्ला, रघु शर्मा, शांति धारीवाल, लालचंद कटारिया, प्रमोद जैन भाया, परसादी लाल मीणा, विश्वेन्द्र सिंह, हरीश चौधरी, रमेश चंद्र मीणा, भंवर लाल मेघवाल, प्रताप सिंह खाचरियावास, उदय लाल अंजाना, सालेह मोहम्मद, और गोविंद सिंह डोटासरा शामिल है. उन्होंने बताया कि पार्टी ने सभी विधायकों को सोमवार को शपथ ग्रहण के लिये सूचित कर दिया गया है.

उन्होंने बताया कि मंत्रिमंडल में शपथ लेने वालो में ममता भूपेश, अर्जुन सिंह बामनिया, भंवर सिंह भाटी, सुखराम विश्नोई, अशोक चांदना, टीकाराम जोली, भजनलाल जाटव, राजेन्द्र सिंह यादव, और आरएलडी के सुभाष गर्ग शामिल है. राजस्थान के मंत्रिमंडल में मुख्यमंत्री सहित कुल 30 मंत्री हो सकते है. शेष अन्य मंत्रियों के पद को बाद में भरा जायेगा.