Earthquake Again In Assam : असम में बुधवार देर रात भी भूकंप के कई झटके महसूस किए गए. भूकंप के झटकों से लोगों में डर और दहशत का माहौल बन गया. असम में रात 1 बजकर 20 मिनट और 1 बजकर 41 मिनट और 1 बजकर 52 मिनट पर भी भूकंप के झटके महसूस किए गए. इस दौरान रिएक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता क्रमश: 4.6, 2.7 और 2.3 मापी गई. इससे पहले बुधवार सुबह भूकंप के तेजद झटके सुबह 7:51 बजे सतह से 17 किलोमीटर की गहराई में आया था. भूकंप का केंद्र असम का सोनितपुर (Assam Earthquake) था.भूकंप के झटके पूरे पूर्वोत्तर क्षेत्र और पश्चिम बंगाल, भूटान और बांग्लादेश के कुछ हिस्सों में भी महसूस किए गए थे.Also Read - दक्षिण पेरु में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर मापी गई 7.2 तीव्रता | Watch Video

Also Read - अंडमान निकोबार में भूकंप के जोरदार झटके, रिक्टर स्केल पर 4.3 मापी गई तीव्रता

क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र (आरएमसी) के उपनिदेशक संजय ओ’नील शॉ ने बताया कि इसके बाद सुबह 7:51 के बाद 8 बजकर तीन मिनट, आठ बजकर 13 मिनट, आठ बजकर 25 मिनट, 8 बजकर 44 मिनट पर 4.7, 4 और दो बार 3.6 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. Also Read - भूकंप के तेज झटके से कश्मीर से तजाकिस्तान तक हिली धरती, रिक्टर पैमाने पर 5.3 थी तीव्रता

उन्होंने बताया कि राज्य के नगांव जिले में 10 बजकर 5 मिनट पर 3.2 तीव्रता का भूकंप का झटका महसूस किया गया तथा कुछ ही देर बाद 10 बजकर 39 मिनट पर तेजपुर में 3.4 तीव्रता के भूकंप का एक और झटका महसूस किया गया. शॉ ने बताया कि दोपहर 12 बजकर 32 मिनट पर मोरीगांव में 2.9 तीव्रता का भूकंप आया। उसके बाद तीन और झटके सोनितपुर जिले में आये.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में भूकंप आने के बाद नुकसान के बारे में जानने के लिए मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को दो बार टेलीफोन किया और केंद्र से सभी जरूरी मदद का आश्वासन दिया. बाद में सोनोवाल ने भूकंप के केंद्र के समीप धेकियाजुली एवं सोनितपुर जिल में आसपास के क्षेत्रों का दौरा किया. असम में मुख्यत: तेजपुर के मध्य और पश्चिमी शहरों, नगांव, गुवाहाटी, मंगलदोई, ढेकियाजुली और मोरीगांव में इमारतों तथा अन्य ढांचों को व्यापक नुकसान पहुंचने की खबरें हैं.

एएसडीएमए ने कहा, ‘कई निजी एवं सरकारी भवनों में दरारें पड़ गयीं, लेकिन भवनों के ढह जाने या किसी बड़े बुनियादी ढांचे के बाधित होने जैसे गंभीर नुकसान की खबर नहीं है. बयान के अनुसार जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों, अग्नि एवं आपात सेवाओं, राष्ट्रीय एवं राज्य आपदा मोचन बलों एवं असम इंजीनियरिंग कॉलेज के विशेषज्ञों के साथ समन्वय से नुकसान का विस्तृत आकलन किया जा रहा है.

स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि पश्चिम बंगाल में जलपाईगुड़ी, अलीपुरद्वार, कूचबिहार और दार्जीलिंग जिले के कुछ हिस्सों में भूकंप के झटके महसूस किए गए लेकिन कोई बड़े नुकसान की खबर नहीं है. बांग्लादेश की राजधानी ढाका समेत कई हिस्सों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। हालांकि किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं मिली है. भूटान में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए.

(इनपुट: भाषा)