असम के शिक्षा मंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कहा है कि बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने की अपनी तरह की पहली पहल के तहत स्कूल जाने वाली हर बालिका को कक्षाओं में शामिल होने के लिए प्रतिदिन 100 रुपये मिलेंगे. सरमा ने कहा कि वर्तमान में राज्य सरकार राज्य बोर्ड से कक्षा 12वीं प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण करने वाली छात्राओं को प्रज्ञान भारती योजना के तहत 22,000 दोपहिया वाहन वितरित कर रही है. राज्य सरकार इस उद्देश्य के लिए 144.30 करोड़ रुपये खर्च करेगी. Also Read - Board Exam 2021: Assam Board Exam 2021: मई में आयोजित होगी इस राज्य की बोर्ड परीक्षा, शिक्षा मंत्री ने इसको लेकर कही ये बात

मंत्री ने कहा कि वर्तमान महीने के अंत तक 100 रुपये प्रतिदिन की योजना शुरू की जाएगी. हालांकि उन्होंने इसके क्रियान्वन पर सरकार पर पड़ने वाले वित्तीय प्रभावों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार उन सभी छात्राओं को स्कूटर मुहैया कराएगी, जो राज्य बोर्ड से प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुई हैं, भले ही यह संख्या एक लाख के पार हो जाए. Also Read - असम का पड़ोसी राज्यों पर आरोप, 'इस साल 56 बार हमारी जमीन का अतिक्रमण किया'

उन्होंने कहा कि 2018 और 2019 में प्रथम श्रेणी में कक्षा 12 की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाली सभी छात्राओं को भी स्कूटर प्रदान किए जाएंगे. मंत्री ने कहा कि स्नातक और स्नातकोत्तर छात्राओं के बैंक खातों में जनवरी के अंत तक 1,500 रुपये और 2,000 रुपये की राशि जमा की जाएगी, जिससे उन्हें किताब और अन्य अध्ययन सामग्री खरीदने में मदद मिल सके. Also Read - Madrassa News: इस राज्य में सभी सरकारी मदरसों को बंद करने वाला विधेयक पेश

मंत्री ने आगे कहा कि दोनों वित्तीय प्रोत्साहत योजना पहले पिछले साल ही शुरू की जानी थी लेकिन कोविड-19 के प्रसार के कारण इसमें देरी हुई.

(इनपुट: भाषा)