Assam Lockdown News: असम सरकार ने मंगलवार को कोरोना की पाबंदियों में ढील देने का ऐलान किया है और अनलॉक की नई गाइडलाइन जारी की गई है. अनलॉक असम में अब सरकार द्वारा जारी किए गए गाइडलाइन के मुताबिक श्रद्धालुओं के लिए 18 अगस्त यानि बुधवार से कामाख्या मंदिर के पट खोल दिए जाएंगे. मंदिर के गर्भगृह में दर्शन के लिए सिर्फ 20 लोग ही जा पाएंगे. गाइडलाइन के मुताबिक मंदिर में दर्शन की अनुमति सिर्फ उन्हें दी जाएगी जिन्होंने कोविड-19 की वैक्सीन के दोनों डोज ले चुके हैं.Also Read - Schools Reopening News: सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं के छात्र से कहा-ये हमारा काम नहीं, आप पढ़ाई पर ध्यान दो

असमवासी गुवाहाटी के कामरूप जिले को छोड़कर किसी भी जिले की यात्रा कर सकेंगे हालांकि अंतर-जिला सार्वजनिक परिवहन निलंबित रहेगा, यानि सार्वजनिक परिवहन के एक जिले से दूसरे जिले जाने पर अभी भी पाबंदी रहेगी. इसके अलावा राज्य सरकार ने रात्री कर्फ्यू के समय को भी घटाकर शाम 7 बजे से सुबह 5 बजे तक कर दिया है  और राज्य में रेस्टोरेंट, होटल और शोरूम अब शाम छह बजे तक खुले रहेंगे. सिनेमा और थिएटर अभी बंद रहेंगे, सरकार ने सिनेमा और थिएटर को खोलने की अनुमति नहीं दी है. Also Read - Rajasthan Schools Reopen: राजस्थान में आज से खुल गए कक्षा 6 से 8 तक के स्कूल, जानिए कब खुलेंंगे प्राइमरी स्कूल

Also Read - Haryana Schools Reopen: खुल गए पहली से तीसरी कक्षा तक के स्कूल, सुबह 9 से 12बजे तक चलेंगे क्लास, ये है guidelines

असम के स्वास्थ्य मंत्री केशव महंत ने कहा, ‘प्रदेश भर में रात्रि कर्फ्यू का समय शाम 7 बजे से सुबह 5 बजे तक रहेगा.

स्नातक/स्नातकोत्तर इंजीनियरिंग/मेडिकल कॉलेजों, जीएनएम, नर्सिंग पाठ्यक्रमों और एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग कॉलेज के अंतिम वर्ष के संबंध में ऑफलाइन कक्षाओं की अनुमति पूरी तरह से टीकाकरण वाले छात्रों के साथ दी जाएगी.’

हवाई अड्डों और रेलवे स्टेशनों पर पहुंचने वाले पूरी तरह से टीकाकरण वाले यात्रियों को अनिवार्य रैपिड एंटीजन टेस्ट (आरएटी) और आरटी-पीसीआर परीक्षणों से छूट दी जाएगी.

सार्वजनिक समारोहों में अधिकतम 200 लोगों को एक साथ खुली जगह पर इकट्ठा होने की अनुमति दी गई है. वहीं, बंद स्थानों के लिए हॉल की क्षमता के 50 प्रतिशत, जबकि यदि लोगों को टीकाकरण हो गया है तो अधिकतम 200 लोग इकट्ठा हो सकेंगे.

शादी समारोहों में 25 लोग हो सकेंगे शामिल शादी समारोहों और अंत्येष्टि में केवल 25 लोगों को शामिल होने की अनुमति दी गई है.

प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में प्रति घंटे 20 लोगों को प्रवेश की अनुमति दी गई है, हालांकि धार्मिक स्थलों में उन्हीं लोगों को अनुमति मिलेगी जिन्हें कोरोना के दोनों टीके लग गए हों. वहीं, अन्य धार्मिक स्थलों पर एक साथ 10 लोगों को प्रवेश की अनुमति मिली है.