गुवाहाटी: असम के पंचायत चुनाव में भाजपा की जीत की लहर जारी है. पार्टी लगातार जारी मतगणना के तीसरे दिन अपनी प्रतिद्वंदी कांग्रेस और गठबंधन साझेदार असम गण परिषद से आगे रही. इस बीच कई बार ऐसा मौका आया, जिनमें मतगणना अधिकारियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. दरअसल कई मुकाबले बराबरी पर छूटने के कारण ऐसा हुआ. बराक घाटी के पंचायत चुनावों में कई प्रत्‍याशियों का मुकाबला बराबरी पर छूटा. बाद में टॉस कर उनकी जीत-हार का फैसला किया गया

राज्य में पांच और नौ दिसंबर को दो चरणों में पंचायत चुनाव हुए थे, जिनमें 21,990 ग्राम पंचायत सदस्य, 2,199 ग्राम पंचायत अध्यक्ष और 2,199 आंचलिक पंचायत अध्यक्ष तथा 420 जिला पंचायत सदस्यों को चुना जाना है. मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने बड़ी तादाद चुनाव में भाग लेने के लिये मतदाताओं का शुक्रिया अदा किया. अब तक आए नतीजों के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी ग्राम पंचायत सदस्य की 7,769 सीटें जीत चुकी है जबकि कांग्रेस को 5,896 सीटों पर जीत मिली है. वहीं, असम गण परिषद को 1,372 और एआईयूडीएफ को 755 सीटों पर जीत हासिल हुई है.

लोकसभा चुनाव 2019: दक्षिण-पूर्वोत्तर की 122 सीटों के लिए BJP का महाप्‍लान, PM मोदी करेंगे ये काम

सिक्‍का उछालकर हुआ फैसला
असम के पंचायत चुनाव के नतीजे लगातार आ रहे हैं. इनमें बीजेपी को सर्वाधिक सफलता मिली है. कांग्रेस दूसरे नंबर पर है. इस बीच कई ऐसे मामले भी सामने आए हैं जिनमें मतगणना अधिकारियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. दरअसल कई मुकाबले बराबरी पर छूटने के कारण ऐसा हुआ. बराक घाटी के पंचायत चुनावों में कई प्रत्‍याशियों का मुकाबला बराबरी पर छूटा. बाद में टॉस कर उनकी जीत-हार का फैसला किया गया. इस तरह टॉस के माध्‍यम से छह प्रत्‍याशी जीते हैं. कछार जिले के निर्दलीय प्रत्‍याशी रंजना बेगम और कांग्रेस के इदरजान बोरभुइयां को बराबर 125-125 वोट मिले. उसके बाद मतगणना अधिकारियों ने सिक्‍का उछालकर उनकी किस्‍मत का फैसला किया. टॉस जीतने के बाद नतीजा इदरजान के पक्ष में रहा.

आज ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ देखने जाएंगे राष्ट्रपति कोविंद, केवड़िया में रखेंगे रेलवे स्टेशन की नींव

रविवार को समाप्‍त हुआ था मतदान
बता दें कि असम में रविवार को दूसरे चरण का पंचायत चुनाव होने के साथ मतदान समाप्‍त हो गया था. उस दिन करीब 75 फीसदी वोटर्स ने शांतिपूर्ण तरीके से अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था. राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एचएन बोरा ने बताया था कि कछार, करीमगंज और नलबारी जिलों से तीन शिकायतों को छोड़कर मतदान शांतिपूर्ण रहा. कछार और करीमगंज के आठ और नलबारी के एक मतदान केंद्र पर मंगलवार को पुनर्मतदान करवाया गया था. इस चुनाव में 78 हजार से अधिक उम्मीदवारों के भाग्य के फैसले होंगे. दोनों चरणों को मिलाकर कुल 82 फीसदी मतदान हुआ है. राज्य में पंचायत चुनाव का पहला चरण 16 जिलों में पांच दिसंबर को हुआ था. उसमें 81.5 फीसद मतदान हुआ था. (इनपुट एजेंसी)