नई दिल्ली: गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (जीजीपी) के प्रमुख हीरा सिंह मरकाम ने रविवार को कहा कि मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के आगामी विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी कांग्रेस के बजाए समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ तालमेल करेगी. उन्होंने कांग्रेस पर गठबंधन बनाने में ‘हिचकिचाहट’ दिखाने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब बहुत देर हो गई है क्योंकि छत्तीसगढ़ में नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया चल रही है और दूसरे दलों ने कई सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं.

राहुल गांधी के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा, नया पीएम-नई सरकार चाहता है देश

उन्होंने कहा बताया कि जीजीपी छत्तीसगढ़ में 60 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी जबकि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली सपा 18 सीटों पर जोर आजमाइश करेगी. उन्होंने सपा के चुनाव चिह्न साइकिल का जिक करते हुए कहा कि इसका हैंडल अब हमारे जबकि पैडल उनके हिसाब से चलेगा.’ जीजीपी का छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के आदिवासी इलाकों पर खासा असर माना जाता है. उन्होंने बताया कि कांग्रेस के कुछ प्रतिनिधियों ने उनकी पार्टी के लोगों से बात की थी, लेकिन छत्तीसगढ़ के किसी बड़े नेता या जिम्मेदार पदाधिकारी ने उनसे बात नहीं की.

राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में तूफानी चुनाव प्रचार को तैयार मायावती, 26 जनसभाएं करेंगीं

उन्होंने कहा कि ‘अगर कोई बात न करना चाहे, और अगर वह ऐसा करता भी है, तो वह कहता है कि एक सीट ले लो या तीन सीट ले लो, तो ऐसे में बातचीत कैसे परवान चढ़ सकती है.’ मरकाम ने कहा कि मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से उनकी बातचीत हुई थी, लेकिन सीट बंटवारे को लेकर सहमति नहीं बन सकी. गौरतलब है कि इन चुनावों में बसपा का गठबंधन राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी की पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के साथ है. उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में उनकी पार्टी के प्रतिनिधियों की कांग्रेस के प्रदेश प्रमुख कमलनाथ से बात हुई लेकिन जितनी सीटें उन्हें दी गई वो उन्हें नामंजूर थीं.