Assembly Election 2019: लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के साथ तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में हुए मतदान के परिणाम भी आने लगे हैं. इसमें सबसे ज्यादा चौंकाने वाला परिणाम आंध्र प्रदेश से आया है, जहां जगन रेड्डी की पार्टी वाईएसआर कांग्रेस 175 सदस्यीय विधानसभा सीटों में से 152 पर अपार वोटों के साथ आगे चल रही है. विधानसभा चुनाव में वाईएसआर कांग्रेस के पक्ष में बही बयार से सत्ताधारी तेलुगू देशम पार्टी सकते में है. साथ ही सकते में होंगे टीडीपी के मुखिया चंद्रबाबू नायडू, जिनकी पार्टी के प्रत्याशी विधानसभा चुनाव के कई दौर की मतगणना के बाद भी महज 23 सीटों पर आगे चल रहे हैं. वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अभूतपूर्व प्रदर्शन को देखते हुए मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने अपने पद से इस्तीफा देने की घोषणा कर दी है.

Assembly Election Results 2019: ओडिशा में बीजद और आंध्र प्रदेश में वाईएसआर की पार्टी ने रुझानों में बनाई बढ़त

Assembly Election Results 2019: ओडिशा में बीजद और आंध्र प्रदेश में वाईएसआर की पार्टी ने रुझानों में बनाई बढ़त

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी न न सिर्फ विधानसभा चुनाव में धमाकेदार प्रदर्शन किया है, बल्कि लोकसभा की सीटों पर भी पार्टी का परफॉर्मेंस जबर्दस्त रहा है. पार्टी राज्य की सभी 25 लोकसभा सीटों पर प्रतिद्वंद्वी पार्टियों के मुकाबले आगे चल रही है. इसे जगन रेड्डी की पिछले कुछ वर्षों में की गई मेहनत और उनकी राजनीति का प्रभाव ही कहा जाएगा, जिसकी बदौलत आज उनकी पार्टी आंध्र प्रदेश में अपार बहुमत के साथ सत्ता संभालने जा रही है. वाईएसआर कांग्रेस पार्टी ने विधानसभा चुनाव की मतगणना में शुरुआती दौर से ही अपना दबदबा बनाए रखा. गुरुवार की सुबह से ही आंध्र प्रदेश में हो रही मतगणना से यह अंदाजा होने लगा था कि वाईएसआर कांग्रेस बहुमत की ओर कदम बढ़ा रही है.

जगन मोहन रेड्डी की इस जबर्दस्त जीत के पीछे की राजनीति का विश्लेषण करें तो पता चलता है कि आंध्र प्रदेश को स्पेशल स्टेटस दिलाने की मांग सबसे पहले वाईएसआर कांग्रेस ने ही की थी. इसके बाद ही केंद्र स्तर चंद्रबाबू नायडू ने भी यह मुद्दा उठाया था. लेकिन राज्य में जगन रेड्डी की यह मुहिम रंग लाई और आज उनकी पार्टी अपार बहुमत के साथ प्रदेश में सरकार बनाने जा रही है.